इस वजह से दुनिया भर की पीड़ित महिलाओं की आवाज बन गई हैं फ्रांस की MARIE LAGUERRE

617

फ्रांस की Marie Laguerre सिर्फ अपने ही देश में नहीं बल्कि आज दुनियाभर में जानी जा रही हैं. Marie Laguerre दुनिया भर की पीड़ित महिलाओं की आवाज बन गईं हैं.

यह पहचान उन्हें मिली हैं उनके साथ छेड़छाड़ करने वाले युवक से बहादुरी से मुकाबला करने के लिए और फ्रांस की सरकार पर महिलाओं की सुरक्षा के लिए नए कानून बनाने का दबाव बनाने के लिए.




Marie Laguerre के साथ Paris की सड़क पर हुई छेड़छाड़ की घटना ने दुनिया को यह दिखाया कि यह France की सड़कें भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं. Marie Laguerre इसका शिकार हुई थीं और छेड़छाड़ करने वाले युवक को सबक सिखाया.

READ THIS: मछली बेचकर पढ़ाई का खर्च निकालने पर हुई ट्रोल, अब HANAN ने किया RAMP WALK

उनके साथ हुई इस घटना का Video Viral हुआ और उन्हें दुनिया भर से समर्थन मिल रहा है. French radio को दिए इंटरव्यू में Marie Laguerre ने अपने साथ हुई घटना का जिक्र करते हुए बताया है कि उनके साथ छेड़छाड़ की घटना 24 जुलाई को हुई थी जब वे घर लौट रही थीं.




उनके मुताबिक एक आदमी ने मुझे देखकर सीटी बजाई और Obscene and degrading comments पास किए. मैंने उसे मना किया. लेकिन मेरी बात को अनसुना कर अपनी हरकतों से बाज नहीं आया. उल्टे गुस्से में  Ashtray फेंक दिया.

मैंने जब इसका विरोध किया तो वह आदमी हिंसक हो गया और मुझे चांचा मार कर पास के Cafe में चला गया. जवाब में मैंने भी उसे जोरदार चांटा मारा, क्योंकि मैं कमजोर नहीं दिखना चाहती थी.

Marie Laguerre ने बताया कि जब उस आदमी ने उसे मारा था उस समय का CCTV Recording मुझे Cafe Owner ने दी और जिससे Attacker को पकड़ने में मदद मिल सके.




SEE THIS: फिल्म अभिनेत्री KAJOL ने क्यों और किसकी वजह से मांगी मीडिया से माफी?

अब यह वीडियो वायरल है और Marie Laguerre को दुनिया भर से समर्थन मिल रहा है. उन्होंने मीडिया को बताया कि घटना का वीडियो वायरल होने के बाद उनके पास हजारों संदेश आए हैं. कुछ महिलाओं ने अपने साथ हुए  Sexual Assault आपबीती सुनाई है तो कई पुरुषों ने इस घटना पर नाजरागी भी जताई है.

Marie Laguerre अपने Facebook Page पर भी लिखा है कि “I can’t keep quiet and we mustn’t stay silent,” इसके बाद उन्होंने एक अभियान भी शुरु किया. उनके इस अभियान का इतना असर हुआ है कि फ्रांसीसी सरकार को 10 दिनों में कानून बनाने पर मजबूर होना पड़ा.

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक National Assembly ने पिछले बुधवार को कानून पारित कर सार्वजनिक स्थलों पर महिलाओं पर फब्तियां कसने, उत्पीड़न करने को अपराध घोषित कर दिया है. इसके तरहत 60 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें