“रक्षाबंधन”- भाई के प्यार की कीमत बड़ी या GIFTS के कीमत की?

531
Rakhi gifts importance

राखी का त्याौहर भाई-बहनों के प्यार का प्रतीक है और इसमें भाई प्यार से बहन को कुछ Gifts भी देते हैं.  पहले जहां बहनों को कुछ नेग दिया जाता था आज बड़े-बड़े Gifts दिए जा रहे हैं. कहीं-कहीं बहनें भी Gifts की कीमत को आंक रही हैं. ऐसा लगता है मनो इस त्यौहार से सादगी भरा भाव नदारद हो गया है.

जितने मंहगे Gifts उतना ही गहरा प्यार. भाई-बहन के स्नेह को इस निशानी की कीमत आज हजारों तक जा पहुंची है. Feelings को अब मंहगे Gifts में भी नापा तोला जाने लगा है और यदि भाई की आर्थिक हैसियत ऐसी नहीं हो कि वह बहन को गिफ्टस नहीं दे सके तो उसका भी मजाक बनाया जाने लगा है.




Rakhi कहने को तो एक मामूली सा धागा है पर रिश्तों की गहराइयों में जाकर महसूस करें तो भाई-बहन के रिश्ते को बाँधती एक नाज़ुक डोरRakhi सिर्फ एक धागे का नाम नहीं है बल्कि इसका एक सबब भी है जो एक उत्तरदायित्व से बंधा हुआ है.

रक्षाबंधन के Festival को मनाने के तरीके के साथसमय के साथ -साथ Gift देने के तरीके में भी बदलाव आया है. आज इस त्यौहार में पहले जैसी रौनक नहीं दिखती.

MUST READ: LUXURY DESIGNER HANDBAGS के BRANDS जो हैं इस साल दुनियाभर में है TOP TREND में

अक्सर मैंने कुछ बहनों को यह कहते सुना है-हूं भाई-भाभी ने तो कुछ अच्छा गिफ्ट दिया ही नहीं. राखी पर मायके जाने का कोई मतलब ही नहीं हुआ? अरे कुछ नहीं तो 500-1000 रुपए ही पकड़ा देते.

क्या रिश्तों में प्यार, विश्वास, स्नेह और भावना की जगह गिफ्टस ने ले ली है. राखी एक ऐसा त्यौहार है जिसमें शादीशुदा बहने जब मायके आती हैं तो ढेरों उम्मीदों के साथ कि भाई उन्हें महंगे गिफ्टस देंगे लेकिन जब ऐसा नहीं होता है तो शिकायतों और गलतफहमियों का दौर शुरु हो जाता है.


हमारे पड़ोस में रहने वाली एक सज्जन की शादीशुदा बेटी राखी पर पिछले साल मायके आई थीं. भाई की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी पर बहन को उम्मीद थी कि भाई-भाभी अच्छा सा गिफ्ट देंगे ही. जब राखी बांधने के बाद भाई ने 500 रुपए दिए तो उसने बुरा सा मुंह बना लिया और भाभी को उलाहने देने लगी.

क्या हुआ यदि भाई इस राखी पर आपको कोई गिफ्ट या महंगा गिफ्ट नहीं दे पाएं? आपके प्रति भाई का प्यार और जिम्मेदारी का एहसास ज्यादा जरुरी है या गिफ्ट की कीमत. वो भाई जो आपके हर दुख-सुख आपकी हर परेशानी में आपके साथ खड़ा हो जाता है उसका साथ क्या आपके लिए मायने नहीं रखता है?




READ THIS: इस तारीख को शादी के बंधन में बंध जाएंगे DEEPIKA RANVEER

राखी का पर्व स्नेह के बंधन से संसार को निरंतर जोड़े हुए हैं. इसिलए भाई से महंगे गिफ्टस या लेनदेन की उम्मीद नहीं करें. हां भाई प्यार और अपनी आर्थिक हैसियत के मुताबिक यदि आपको कोई उपहार देना चाहें तो सहर्ष स्वीकार करें. गिफ्टस की कीमत न देखें.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें