अपने बच्चों में भी डालिए YOGA HABITS

115
yoga habits in kids
yoga habits in kids

प्रियंवदा सहाय:

बदलती जीवनशैली और ख़ानपान के तौर तरीक़ों के बीच खुद को फिट रखने के लिए योग जरुरी है. यह सोचना कि योग केवल बड़ों के लिए या बीमार होने पर ही करना जरुरी है कहना गलत है. दरअसल यदि बच्चों में yoga habits बचपन से ही लग जाए तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता. यह बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जरुरी है.





शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योग बेहद जरुरी है. इसलिए योग को स्कूलों के पाठ्यक्रम में अनिवार्य रुप से शामिल किया जाना चाहिए. दरअसल स्वस्थ बचपन ही स्वस्थ भविष्य का निर्माण कर सकता है. योग की आसान क्रियाओं को बच्चे सहजता से कर सकते हैं और स्कूल में आदत पड़ने से वे ताउम्र इस आदत को बनाए रख सकते हैं.

I began practicing yoga in Nov 2013 and didn’t get to a class until Nov 2016. I was always looking for well-taught online classes to further my practice at home since getting to a studio wasn’t available to me at the time. IG introduced me to many of the amazing instructors whose online classes I began to take and whose names became well-known with my kids. Sometimes simply saying, “Hey, let’s do yoga with Dylan!” (someone they love watching on IG) gets the kids super excited and inspired to get on the mat (I’m not going to lie, me too) 🤗 We have been using this platform for online classes for a couple of years now with several of the programs, but now that it has become subscription based, we are able to access thousands of classes for $20 per month, which is less than $0.70 a day 🙌🏽 If you haven’t already, try it out yourself today! @Alo.Moves is offering a 14 day free trial so that you, too, can be inspired to move on your mat at home or on the road with some of the best classes taught by many of the world’s best teachers ❤ Click the link in my bio or go to alomov.es/summer to check it out and start your free trial today! 🙏🏽❤

A post shared by Summer Perez (@summerperez) on

डॉक्टर भी मानते हैं कि योग की अलग-अलग क्रियाओं में स्वस्थ रहने का मूलमंत्र है. इससे आत्मिक शांति के साथ बौद्धिक विकास भी होता है. यह हिंसा, उग्रता और बेचैनी को खत्म करता है और मन को शांत करता है. एनसीईआरटी ने सीबीएसई स्कूलों में योग को शुरु करने का निर्णय लिया है.

Are you looking for a Summer Camp that will impact positively on your children’s life ??? @breathehotstudio has one!!! From June 25 to July 27 our team @anacris31 and @gabsgza will team to share with them the practice of yoga and healthy habits. The program will be as follows : 9:45 – 10:00 am instructors will greet students at the studio 10:00 – 10:10 mindful breathing techniques 10:10 – 11:00 Yoga Practice 11:00 – 11:10 Healthy snack. They will learn the importance of making healthy choices on food 11:10 – 12:00 pm Art Project More info DM @breathehotstudio @anacris31 @gabsgza @esthelavaldes Cost $50 per week Registrations open @mindbody Looking forward to see your babies at our studio ! #kidsyoga #mindfulness #growinguphealthier

A post shared by Breathe Hot Studio (@breathehotstudio) on

वह इसे स्वास्थय और शारीरिक शिक्षा का अभिन्न भाग मान रही है. इसलिए मीडिल स्कूलों तक इसे अनिवार्य करने की बात कही है. वहीं केंद्र सरकार की ओर से राज्यों को अपने स्कूल सिलेबस में योग शामिल करने का अनुरोध किया जा चुका है. जबकि उत्तर प्रदेश सरकार योग को राज्य के सरकारी स्कूलों में अनिवार्य करने का ऐलान भी कर चुकी है.




दरअसल अगर कोई रोजाना योग करे और इसे अपने डेली रुटीन का हिस्सा बनाए तो इसके कई लाभ हो सकते हैं. स्वास्थय लाभ के अलावा ध्यान केंद्रित करने, पाचन क्षमता बढ़ाने और उर्जा वृद्धि में भी यह सहायक होता है. इसलिए पढ़ने वाले या परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए योग का विशेष लाभ है. इससे ध्यान केंद्रित करने में उन्हें बहुत मदद मिलती है. yoga habits से मन और दिमाग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. कह सकते है कि बच्चों के मानसिक स्वास्थय के लिए रामबाण का काम करता है.




योग से बच्चों के वजन को नियंत्रित करने में भी मदद मिलती है. आजकल फास्ट फूड के कारण बच्चों का बढ़ता वजन और छोटी उम्र में ही डायबिटीज औऱ मोटापे के कारण होने वाली कई बीमारियों के चपेट में आने के मामले काफी बढ़ रहे हैं. ऐसे में नियमित योग करने वाले बच्चे अपने वजन को बढ़ने से रोक सकते हैं. इससे शरीर लचीला भी रहता है.

पढ़ाई का बोझ, प्रतिस्पर्धा में आगे निकलने का तनाव और स्कूल में बेहतर प्रदर्शन करने की चिंता बच्चों में दिनों-दिन बढ़ती जा रही है. ऐसे में yoga habits से तनावमुक्त और ताजगी बरकरार रखने में मदद मिलेगी क्योंकि योग कठिन परिस्थिति में भी हिम्मत से काम लेने और आगे बढ़ने का साहस देता है.

आज की भागमभाग जिंदगी में बड़ों की तरह बच्चों की जिंदगी भी काफी व्यस्त हो चुकी है. पहले स्कूल होमवर्क, फिर ट्यूशन और दूसरी गतिविधियों में शामिल होने से उन्हें काफी थकान होती है.

ऐसे में योग के जरिए उन्हें ऊर्जा मिलती है जिससे वे अपना बेहतर प्रदर्शन कर सके. इसलिए अपने बच्चों को योगा करने के लिए प्रेरित कीजिए.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें