क्यों धार्मिक स्थल भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं, यहां होने वाली छेड़छाड़ के खिलाफ- #MosqueMeToo कैंपेन शुरु

64
#MosqueMeToo
Mona Eltahawy started #MosqueMeToo campaign #MosqueMeToo

क्यों धार्मिक स्थल भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है? पवित्र स्थानों पर भी महिलाओं को छेड़छाड़ का शिकार बनाया जाता है. यौन उत्पीड़न के खिलाफ दुनियाभर में चले #MeToo कैंपेन के बाद इसी कड़ी में Social Media एक नया कैंपेन #MosqueMeToo धार्मिक स्थलों पर होने वाले छेड़छाड़ के खिलाफ शुरु हुआ है.




मिस्र मूल की अमेरिकी पत्रकार Mona Eltahawy ने यह कैंपेन Twitter पर शुरु किया है. जिससे हजारों महिलाएं जुड़ गई हैं और अपनी आपबीती शेयर कर रही हैं.

यह कैंपेन महिलाओं को अलग-अलग धार्मिक स्थल जैसे मंदिर, मस्जिद, चर्च में हुई छेड़छाड़ की घटना के लिए आवाज उठाने के लिए प्रेरित कर रहा है. सोशल मीडिया पर यह कैेंपेन अभी ट्रेंड कर रहा है.




READ THIS: #MeToo कैंपेन चलाने वाली महिलाओं को टाइम मैगजीन ने चुना ‘PERSON OF THE YEAR’

दरअसल मोना 2013 में हज यात्रा के दौरान छेड़छाड़ का शिकार हुई थी. उन्होंने इसी घटना को Twitter पर शेयर किया. देखते-देखते दुनियाभर की कई महिलाएं  इस कैंपेन से जुड़ गई हैं.




मोना का कहना है कि मुझे खुशी है कि महिलाएं अब अपने साथ हुई छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न की घटनाओं के खिलाफ खुलकर बोल रही हैं.

 

मोना के Tweet के बाद सबसे पहले सबिका खान नाम की महिला ने लिखा- ‘हम इसा की नमाज अदा करने के बाद काबा का तवाफ कर रहे थे और मेरे साथ वो हुआ जो मैंने ख्वाब में भी नहीं सोचा था. तीसरे तवाफ के दौरान मैंने पाया कि किसी अनजान का हाथ मेरी कमर पर था.

साबिका लिखती हैं मैंने ये मानकर इसे पूरी तरह से अनदेखा कर दिया कि हो सकता है ये गलती से हुआ हो, लेकिन जब ये दोबारा और तीसरी बार हुआ तो इसने मुझे परेशान कर दिया, मैं पूरी तरह से हैरान थी कि आखिर ये हो क्या रहा है, लेकिन हद तब हो गई जब वो हाथ मेरे कमर से नीचे जाने लगा.

READ MORE: MALLIKA DUA-#MeToo-मेरी मां कार चला रही थी और उसका हाथ मेरी SKIRT में था

साबिका खान ने अपने फेसबुक पेज पर #MosqueMeToo के साथ यह आपबीती शेयर की है. उनका कहना है कि वे डर रही थीं कि कहीं ये लोगों की भावनाओं को न आहत करे, लेकिन वो अपनी बात रख रही हैं.

एक दूसरे यूजर कल्याणी कामत ने लिखा है कि जब मैं 12 साल की थी तब एक स्थानीय पुजारी ने ग्रह और नक्षत्र ठीक करने के नाम पर मेरे मां-बाप के सामने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया था. उसने मेरे ब्रेस्ट भी छुए थे.

वहीं Anggi Lagorio ने लिखा है मस्जिदिल हराम के सामने बैठे एक दुकानदार ने मेरी मां से कहा-हे ब्यूटीफुल, मेरी दुकान के अंदर आ जाओ. उसने उनका हाथ पकड़ कर उन्हें अंदर खींचना चाहा. मेरी मां उन पर चिल्लाई.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें