सोना खरीदने पर टैक्स में मिलेगी राहत या फिर होंगे आहत?

133
सोने के गहने
Women buying gold

प्रियंवदा सहाय:

महिलाओं को सोने के गहने पहनना और खरीदना दोनों पसंद है. पर सोने की बढ़ती कीमतें महिलाओं को अक्सर मुश्किल में डाल देती है. अब तो उन्हें इस बात को लेकर चिंता सता रही है कि जीएसटी लागू होने के बाद सोना खरीदना महंगा पड़ेगा या थोड़ी राहत मिलेगी. फिलहाल तो इस पर तस्वीर साफ नहीं है. अब इसे महिलाओं की भावनाओं का ख्याल कहिए या फिर उनके आक्रोश का खौफ सरकार अभी तक सोने के गहनों पर वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) का दायरा अब तक तय नहीं कर पाई है.




वित्त मंत्री अरूण जेटली समेत जीएसटी काउंसिल के सदस्यों को यह समझ नहीं आ रहा है कि सोने के गहने को जीएसटी के दायरे में लाकर कितना टैक्स लगाया जाए? क्योंकि  मार्केट के विशेषज्ञ बताते हैं कि तमाम समस्याओं और महंगाई के बावजूद सोने की बिक्री में कमी नहीं आती. किसी शुभ दिन, शादी या त्यौहार पर ज्वैलर्स की दुकानों पर होने वाली भीड़ और सरकारी आंकड़ें दोनों यही बयां करते हैं. सरकार को भी इस बात का अंदाजा है कि महिलाएं सोने के गहने केवल पहनने के लिए नहीं खरीदतीं बल्कि यह उनके निवेश, संपन्नता और परंपरा से भी जुड़ा है. ऐसे में सोने को महंगा करना उन्हें नाराज करना जैसा है और यह निर्णय भविष्य में उनके लिए चुनौती साबित हो सकती है.




सरकार को बिजनेस इंडस्ट्री, ज्वैलर्स एसोसिएशन और महिला संगठनों के प्रतिनिधियों ने यह सलाह दी है कि वे सोने पर सबसे कम जीएसटी तय करें. सरकार यदि इस सुझाव को मानती है कि सोने पर कम से कम 5फीसदी जीएसटी लगना तय है. इस बारे में अंतिम फैसला तीन जून को जीएसटी काउंसिल की बैठक में होने की उम्मीद है.




फिलहाल अच्छी खबर यह है कि सैर-सपाटा या फिर ब्रांडेड कपड़ों की शॉपिंग पहले से सस्ती हो जाएगी. एक जुलाई 2017 से जीएसटी लागू होने वाला है. इसके बाद महिलाएं के अपनी इन इच्छाओं को घरेलू बजट में पूरा करने की संभावना है. वहीं कई ऐसी चीजों के दाम भी घटेंगे जिससे महिलाओं के लिए इंटरटेनमेंट और ब्रांडेड चीजें खरीदने का विकल्प भी बढ़ेगा. हालांकि महंगे मोबाइल फ़ोन ख़रीदना आने वाले दिनों में और भी महंगा हो जाएगा.