SCIENCE-TECHNOLOGY के क्षेत्र में महिलाओं के ऊंचे पदों पर नहीं पहुंचने की ये है 6 वजहें

22
Science-Technology
(Pik Courtesy: MyScienceWork)

Science-Technology, Engineering, Mathematics (STEM) के क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं में केवल 20 फीसदी ही ऊंचे पदों पर पहुंच पाती हैं. 52 फीसदी महिलाएं तो असंतुष्ट होकर ये सेक्टर ही छोड़ देती हैं.




ये नतीजा Harvard Business Review (हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू) के एक अध्ययन से निकले हैं. इन्हीं नतीजों के पीछे की वजह पता करने के लिए हार्वर्ड ने  Center For Talent Innovation (सेंटर फॉर टैंलेट इनोवेशन) के साथ मिलकर एक और अध्ययन किया.

इसमें 3 हजार से ज्यादा लोगों को शामिल किया गया. इस अध्ययन से 6 ऐसी वजहें सामने आईं जिनके कारण इन सेक्टर में कम महिलाएं ऊंचे पदों तक पहुंच पाती हैं. इनमें सबसे बड़ी वजह यह रही कि महिलाएं अपने काम का Credit नहीं ले पाती हैं.




SEE THIS: GENDER PAY GAP IN INDIA- महिलाओं की सैलरी पुरुषों से 16% कम क्यों?

क्या है 6 खास वजहें-

1-आत्मविश्वास की कमी

80 फीसदी महिलाओं ने यह स्वीकार किया कि वर्कप्लेस पर कई अहम मौकों पर उनका आत्मविश्वास डगमगा जाता है. जब सिर्फ ऊंचे पदों पर बैठी महिलाओं से बात की गई तो उनमें से भी सिर्फ 39 फीसदी महिलाओं ने यह स्वीकार किया कि वो पूरे कांफिडेंस के साथ अपनी बात साथियों से नहीं रख पाती हैं.

2-टीम नहीं बना पाना




STEM सेक्टर से जुड़ी 37फीसदी महिलाओं ने माना कि उन्होंने कभी भी किसी को ्पनी कंपनी में आने के लिए बढ़ावा नहीं दिया. उन्होंने ये भी कहा कि कई मौकों पर उन्होंने किसी करीबी और योग्य व्यक्ति को भी अपनी टीम में लेने से मना कर दिया.

READ THIS: BIOTECHNOLOGY के फील्ड में क्यों है आपका शानदार करियर ?

3-काम का क्रेडिट नहीं ले पाना

82फीसदी महिलाओं ने स्वीकार किया कि कभी न कभी उनके लिए काम का क्रेडिट दूसरों को दिया गया. 30फीसदी महिलाओं ने तो ये तक माना कि जब भी उनके साथ इस तरह की स्थिति बनी तो वो उसका विरोध नहीं कर पाई. इस वजह से उनके किए काम का श्रेय किसी और कर्मचारी को मिल गया.

4-आधिकारिक जानकारियों की कमी

ऊंचे पदों पर बैठी 78फीसदी महिलाओं ने कहा कि उन्हें कंपनी से जुड़ी सभी आधिकारिक जानकारियां पता रहती हैं. वहीं सामान्य पदों पर बैठी सिर्फ 58फीसदी महिलाओं ने ही ये जानाकारियां होने की बात स्वीकार की. उन्होंने कभी भी इसमें दिलचस्पी नहीं ली.

5-कमजोर नेटवर्किंग

अध्ययन में ये भी पता चला कि ऊंचे पदों पर काम कर रही महिलाएं अपने ऑफिस नेटवर्क का बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर पाती हैं जो उनके काम में मददगार साबित होता है. मैनेजर स्तर की महिलाओं का कहना है कि वो अपने साथियों और अपने सीनियर्स के साथ बराबर बेहतरी के साथ कम्युनिकेशन कर पाती हैं.

6-खुद को ब्रांड के तौर पर स्थापित ना कर पाना

अध्ययन में शामिल 50फीसदी से ज्यादा महिलाओं ने यह माना कि वो कंपनी में खुद को एक ब्रांड के तौर पर स्थापित करने में नाकामयाब रही हैं. वहीं सफल महिलाओं में से अधिकतर ने यह स्वीकार किया कि उनकी कंपनी में वो भी एक ब्रांड है.

(साभार-दैनिक भास्कर)

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें