आखिर ऐसा क्या हो रहा कि PARENTS से दूर हो रहें हैं बच्चे ?

1051
Kids annoyed with parents

संयोगिता कंठ

आजकल समाज में ऐसे कई उदाहरण दिख रहे हैं जो बता रहे हैं कि किस तरह बच्चे अपने Parents से दूर होते जा रहे हैं. खासकर पढ़ाई और बेस्ट बनने के लिए बच्चों पर जो दबाव बनाया जा रहा है उसकी वजह से बच्चे अपने पैरेंटस के बजाए बाहर कहीं अपना हमदर्द ढूंढने लगे हैं. वो हमदर्द सोशल मीडिया हो सकता है या कोई बाहरी दोस्त.




MUST READ :कैसे करें अपने बच्चों से EFFECTIVE बातचीत?

दबाव का सामना कर रहे बच्चे कोई भी खतरनाक कदम उठा लेते हैं . फिर हमारे पास सिवाय हाथ मलने और अफसोस जताने के कुछ बाकी नहीं रह जाता है इसलिए जरुरी है कि समय पर अलर्ट हुआ जाए




पढाई को लेकर संकुचित हो रही मानसिकता “अव्वल आने” का दवाब और परवरिश का तरीका इन सब मुद्दे को लेकर हमने साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर नीलम सक्सेना बात की.

उन्होंने कहा कि सबसे पहले परवरिश को लेकर कहा कि माता पिता और बच्चे के बीच का जो संबंध है वो हर हाल में सहज रहना चाहिए ताकि बच्चों को अपना डर ,इच्छा ,अनिच्छा सब कुछ बताने की स्वतंत्रता हो . कुछ अपेक्षा करने से पहले हमें अपने बच्चों की प्रकृति और प्रवृति समझना भी बहुत जरुरी है.




MUST READ :मां की PAINTING में पांच साल के बच्चे ने नीचे क्यों लगा दिया RED निशान?

डॉ. नीलम ने बच्चों की पढाई पर बढ़ रहे दवाब पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि स्थिति अफसोसजनक है. हमारे पास कई ऐसे केस आते हैं जहां पढाई का दवाब बढने से बच्चे डिप्रेशन में चले जाते हैं या क्रिमिनल एक्टिविटी अपनाने लगते हैं .

उनका कहना कि जरुरी नहीं है कि हर बच्चा पढाई में आगे ही रहे या हमेशा क्लास में फर्स्ट आने वाला बच्चा ही जीवन में सफल हो .हर किसी का अपनी क्षमता और अलग जिज्ञासा हो सकती है . आज बहुत जरुरी हो गया है कि माता पिता अपने बच्चों को समझें और उसे उसकी इंट्रेस्ट के क्षेत्र में ही प्रोत्साहित करें .

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें