लड़का-लड़की के कुंडली मिलाने से ज्यादा जरुरी क्यों है MEDICAL TEST कराना

1975
Medical Test
Medical Test

हमारे यहां शादियों की शुरुआत सबसे पहले कुंडली को मिलाने से होती है यानी लड़का और लड़की दोनों के जन्म के हिसाब से बनी कुंडली यानी जन्मपत्री को मिला कर देखा जाता है कि उन दोनों में कितने गुण मिलते हैं? आमतौर पर कोई ज्योतिष या पंडित जी इन गुणों की गणना करके बताते हैं कि दोनों के बीच जोड़ी कैसी बनेगी?  यह मसला यानी कुंडली मिलान सिर्फ़ अरेंज्ड मैरिज तक ही सीमित नहीं है. अब बहुत से लोग जब अपने अफेयर को लव मैरिज में बदलते हैं तब भी उनके पेरेंट्स कुंडली मिलान करवा ही लेते हैं. बहाना ये होता है कि शादी के लिए तो तैयार हैं लेकिन यह जानना ज़रुरी है कि भविष्य में कहीं कोई बड़ी परेशानी तो नहीं होगी?




MUST READ:  क्या GYNAECOLOGIST के पास मां के साथ जाना जरुरी है?

 

कुंडली मिलान को लेकर यहां विरोध या समर्थन का मसला नहीं है,लेकिन कुंडली से ज़्यादा ज़रुरत लड़का और लड़की के Medical Test की होती है यानी दोनों की Health कैसी है, कोई बड़ी बीमारी या उसके लक्षण तो नहीं है जिसका असर आने वाले बच्चे पर भी पड़ सकता हो या फिर इनफर्टिलिटी जैसी कोई परेशानी तो नहीं है. इसलिए अब ज़्यादातर लोग ये सलाह देते हैं कि कुंडली मिलान जितना ज़रुरी है, उतना ही आवश्यक है, दोनों का हेल्थ चेकअप की रिपोर्ट का ठीक होना .

 मेडिकल चेकअप एक कुंडली से ज्यादा जरूरी होता है. शादी से पहले कौन से पांच टेस्ट ज़रुरी हैं, जानिए –




1- अगर लड़का-लड़की दोनों का Rh फैक्टर एक समान है तो बहुत अच्‍छा है. प्रेगनेंसी के समय बच्चे और मां का अलग-अलग Rh फैक्टर होने से मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

2 -एचआईवी के नाम से लोग इसे चरित्र या बदचलनी से जोड़ने लगते हैं जबकि यह सच नहीं है. एचआईवी पॉजिटिव होने के कई दूसरे कारण भी हो सकते है और ये एक जानलेवा बीमारी हैं. इसलिए बात जब पूरी जिंदगी साथ बिताने की हो, तो बेहतर है कि दोनों साथी सहमति से एचआईवीजांच करवा लें, क्योंकि शादी के बाद पता चला तो बहुत सी मुश्किलें आएंगी और तब कुछ किया नहीं जा सकता.

MUST READ: क्या हमारे DESIRE नहीं हो सकते?

 

3- जेनेटिक डिजीज को जानने के लिए जेनेटिक टेस्‍ट करवाना जरूरी है, इससे इस बात की जानकारी मिल जाती है कि आपके होने वाले पार्टनर को कोई आनुवांशि‍क बीमारी तो नहीं है.




4- अगर लड़की की उम्र ज़्यादा है तो बेहतर होगा कि ओवरी की जांच जरूर कराएं. इससे  मां बनने की क्षमता का पता चल जाएगा.

 5-और सबसे जरूरी जांच है इनफर्टिलिटी स्‍क्रीनिंग, जिसे लड़का और लड़की दोनों को कराना चाहिए.

एक बात समझना ज़रुरी है कि ये टेस्ट किसी और के लिए या फिर आपके Character Certificate जैसा नहीं है. अगर टेस्ट करवा लेंगें तो परेशानियों से बचने की संभावनाएं ज़्यादा है और ज़ाहिर है आप बेहतर विवाहित ज़िंदगी गुज़ार सकेंगे. तो शादी की तैयारियों में Medical Test को भी शामिल कर लीजिए और रखिए इसे लिस्ट में सबसे ऊपर.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे… 

Facebook Comments