क्यों बढ रहा है MARRIAGE COUNSELLING का चलन?

728
Marriage Counseling

Marriage हर किसी के जीवन का सबसे बड़ा अवसर होता है. इसके बाद आप एक नए जीवन में प्रवेश करते हैं. अलग अलग सामाजिक, आर्थिक और पारिवारिक परिवेश वाले लोग जब साथ इस सुहाने सफर पर निकलने वाले होते हैं तो उन्हें मानसिक और शारीरिक तौर पर खुद को तैयार करना बहुत जरुरी होता है जिससे कि नए जीवन के साथ सामंजस्य बिठा कर सुखद जीवन की नींव रखी जा सके.




एक समय था जब हम संयुक्त परिवार का हिस्सा होते थे . नए जीवन के लिए काउंसलिंग की पृष्ठभूमि घर में ही तैयार हो जाती थी. घर का कोई बड़ा इस जिम्मेदारी को निभाता था, लेकिन आज जमाना बदल गया है. एकल परिवार में हम इन सबसे महरुम होते जा रहे हैं. ऐसे में परिवार की जिम्मेदारी अब प्रोफेशनल्स निभा रहे हैं. इसलिए Marriage Counselling  का ट्रेंड बढता जा रहा है .

MUST READ: कहां हुआ सभी धर्मों के लिए MARRIAGE REGISTRATION जरुरी?

क्यों जरुरी है शादी से पहले Counseing ?

.Marriage को लेकर हर लड़की की एक स्वप्निल दुनिया होती है लेकिन हकीकत और ख्वाब में बहुत फर्क होता है, इस फर्क को आप सहजता से स्वीकार कर सकें इसके लिए समझ पैदा करना जरुरी है .




. नए जीवन में खुद को ढाल पाने की चुनौती और होनेवाले जीवनसाथी को लेकर एक अनजाना सा डर होता है. काउंसलिंग से यह डर दूर हो जाता है.




. लड़कियों को ये समझना जरुरी होता है कि नए माहौल में Acceptance और Adjustment कायम कर ससुराल को अपना घर मान सके .

.लड़कियां सेक्स को लेकर ज्यादा आतंकित रहती हैं. पहली रात कैसी होगी और वे दोनों कैसा महसूस करेंगे ऐसे कई सवाल मन में घूम रहे होते हैं. ऐसे में उन्हें Scientifically और Psychological स्तर पर काउंसिलिंग देना बहुत जरुरी होता है .उन्हें बताना जरुरी है कि ये ह्यूमन बॉडी की जरुरत है .

MUST READ : NRI MARRIAGE करना है तो ध्यान रखिए 5 बातें..

.अरेंज मैरेज हो या लव मैरेज शादीशुदा जिंदगी की चुनौतियों के लिए मानसिक तौर पर तैयार रहने के लिए काउंसिलिंग जरुरी होता है.

. परिवार की इच्छा अपेक्षा और जिम्मेदारी के बीच अपना अस्तित्व, संबंध, शौक और मान सम्मान कैसे बनाए रखें इसे समझना जरुरी होता है .

 . यदि आप नौकरीपेशा हैं तो भावी पति पति पत्नी के बीच जिम्मेदारियों के बंटवारे पर काउंसलिंग बहुत अहम हो जाता है. 

 

Facebook Comments