WOMEN’s RiGHT से जुड़े कानून बनाने में अमरीका भारत समेत कई देशों से पीछे, लेकिन भारत में चुनौती कानूनों के पालन की

768
Women's Right

“अमरीका दूसरे देशों की तरफ तो ऊंगली उठाता है, लेकिन Women’s Right से जुड़े कानूनों के मामले में वो कई देशों से पीछे है. मेरे हिसाब से भारत में महिला अधिकारों को लेकर कई ऐसे प्रगतिशील कानून है जो अमरीका में भी नहीं हैं लेकिन यहां पर चुनौती उन कानूनों के पालन की है.”




अमरीका के वाशिंगटन विश्वविद्यालय के महिला केंद्र की निदेशक डॉ.सुतापा बासु ने दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में अध्यापकों और छात्रों से मुखातिब होते हुए ये बातें कहीं. डॉ. बासु जामिया में लीगल सेल, रजिस्ट्रार ऑफिस की तरफ से आयोजित “वुमेन्स राइट्स आर ह्यूमन राइट्स- अ पर्सपेक्टिव इन द करंट ग्लोबल इकॉनमी” शीर्षक पर बोल रहीं थीं.




MUST READ: #MeToo कैंपेन चलाने वाली महिलाओं को टाइम मैगजीन ने चुना ‘PERSON OF THE YEAR’

डॉ बासु महिला अधिकारों को लेकर आवाज़ उठाने के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है और उन्हें दर्जनों सम्मान इस कारण से मिल चुके हैं. उन्होंने कहा कि महिलाओं को हर तरह की हिंसा का शिकार होना पड़ता है. अमरीका का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि हर 9 सेकंड में अमरीका में एक महिला हिंसा का शिकार होती है.




दुनिया की हर 4 में से 1 महिला के साथ यौन शोषण होता है और अमरीका उन देशों में शामिल है जहां महिलाओं के साथ सबसे ज़्यादा हिंसा होती है. महिलाओं के अधिकार, मानवाधिकार हैं और इसे समझने की ज़रूरत है.

डॉ बासु के मुताबिक “दुनिया मे 50 फीसदी आबादी महिलाओं की है लेकिन अधिकार उसके अनुपात में बहुत कम हैं.  उनके साथ  द्वितीय श्रेणी के नागरिक की तरह सलूक होता है.” मानव तस्करी को दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ता हुआ संगठित अपराध बताते हुए उन्होंने कहा कि पहले ड्रग्स और हथियारों की तस्करी के बाद मानव तस्करी सबसे तेजी से फैलने वाला संगठित अपराध था लेकिन अब ये दूसरे नंबर पर आ गया है.

एक अनुमान के मुताबिक 64 से लेकर 100 बिलियन डॉलर का कारोबार हो गया है मानव तस्करी का पहले देह व्यापार के लिए मानव तस्करी ज़्यादा होती थी लेकिन अब मज़दूरी और दूसरे कामों के लिए मानव तस्करी ज़्यादा हो रही है. बसु के मुताबिक पूरी दुनिया मे सबसे ज़्यादा मानव तस्करी भारत से होती है.

MUST READ: ग्लोबल सर्वे में महिलाओं पर SEXUAL VIOLENCE के मामले में दिल्ली सबसे खराब शहर

मानव तस्कर देश के अंदर भी सक्रिय हैं और उन्हें विदेश भी भेज रहे हैं इनमे काफी बड़ी संख्या महिलाओं की भी है.
वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के वूमन सेन्टर ने बारबार दबाव बनाया तो मानव तस्करी के खिलाफ वाशिंगटन राज्य ने कानून भी पारित किया था. ह्यूमन ट्रैफिकिंग एंड सप्लाई चैन के नाम से वाशिंगटन स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ़ कॉमर्स ने एक रिपोर्ट भी जारी की थी.

जामिया के कुलपति प्रोफेसर तलत अहमद ने डॉ बासु का स्वागत किया और उनके बारे में लोगों को बताते हुए कहा ” पिछले 25 साल से वो वूमन सेन्टर की निदेशक हैं और अनगिनत अवार्ड डॉ बासू को मिल चुके हैं जो ये बताता है कि वो कितनी महत्वपूर्ण शख्सियत हैं.” जामिया के रजिस्ट्रार ए पी सिद्दीकी (आईपीएस) ने पूरा कार्यक्रम अपनी देख-रेख में पूरा करवाया.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें