NAZIA KHAN को उत्तर प्रदेश पुलिस ने क्यों बनाया आगरा की SPECIAL POLICE OFFICER

1172
Nazia khan
UP DGP appointed Nazia Khan special police officer of Agra

बच्ची के अपहरण की कोशिश को नाकाम कर अपराधियों के छक्के छुड़ाने और अपने पड़ोस में चल रहे जुए के अड्डे को बंद कराने वाली आगरा की बहादुर लड़की Nazia Khan को यूपी पुलिस ने आगरा का Special Police Officer बनाया है. उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने उन्हें यह सम्मान दिया है और विशेष पुलिस अधिकारी मनोनीत किया है.




नाजिया को इस वर्ष राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिया गया था. गणतंत्र दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों पुरस्कार दिया गया. 7 अगस्त, 2015 को हुई अपहरण की घटना में शामिल अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने वाली नाजिया इस वर्ष पुरस्कार पाने वाली उत्तर प्रदेश की इकलौती छात्रा रहीं.

मीडिया रिपोर्टस के मुताबकि यूपी डीजीपी ने पिछले सप्ताह नाजिया से मुलाकात की और उन्हें यह सम्मान दिए जाने की घोषणा की. यूपी पुलिस ने बाद में Tweet कर इस बारे में जानकारी भी दी.




एक बच्ची को अपहरण से बचाने की घटना 7 अगस्त, 2015 की है. वे हर दिन की तरह स्कूल से वापस आ रही थीं. तभी दिन के करीब 12.30 बजे छह साल की बच्ची को बाइक पर सवार दो किडनैप करने की कोशिश करने लगे.

MUST READ: NATIONAL BRAVERY AWARD पाने वाली इन बहादुर लड़कियों के किस्से सुनकर दंग रह जाएंगे

नाजिया ने अपनी जान की बाजी लगाकर बच्ची को बचाने की कोशिश की और बदमाशों को बाइक से नीचे गिरा दिया. बदमाशों ने उस पर हमला भी किया लेकिन उसने जान की परवाह किए बगैर बच्ची को नहीं छोड़ा. उसका साहस देखकर कुछ लोग और उसकी मदद को आगे आए. बदमाश भाग निकले पर बच्ची का अपहरण होने से बचा लिया गया.




इस घटना की आगरा ही नहीं पूरे प्रदेश में चर्चा हुई. तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी नाजिया को इस उपलब्धि के लिए रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड से सम्मानित किया था. 

नाजिया की उम्र अभी बेशक छोटी है लेकिन उसके हौसले ने अपराधियों को भी हैरान कर दिया. 16 साल की नाजिया ने जुए और सट्टेबाजी का अवैध धंधा करने वालों को पकड़ने में उत्तर प्रदेश पुलिस की मदद की.

READ THIS: इस लड़की को सुनिए 13 साल में 12 देशों के ACCENT में ENGLISH बोलती है

उसके पड़ोस में कई दशकों से जुए और सट्टे का अवैध व्यवसाय चल रहा था. नाजिया ने इसके खिलाफ आवाज उठाई, सबूत जुटाए और 13 जुलाई 2016 पुलिस में शिकायत की. नाजिया की पहल पर चार लोगों की गिरफ्तारी हुई और यह धंधा बंद हो गया लेकिन इसका खामियाजा उसके पूरे परिवार को उठाना पड़ा.

Nazia khanउसके परिवार वालों को सताया गया. नाजिया की पिटाई की गई और उसका स्कूल आना-जाना बंद हो गया. कहीं से कोई मदद नहीं मिलने पर नाजिया ने मुख्यमंत्री से मदद मांगी और उसके बाद उस पर कार्रवाई हुई. नाजिया को अब तक कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है.

Nazia khanमहिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें