संयुक्ता भाटिया बनीं लखनऊ की FIRST WOMAN MAYOR, शादिया रफीक ने बनाया लखनऊ की सबसे कम उम्र की पार्षद बनने का रिकॉर्ड

877
First Woman Mayor
संयुक्ता भाटिया (left),शादिया रफीक(right)

उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव में जहां भाजपा ने जबरदस्त जीत हासिल की है वहीं इसके साथ कुछ रिकॉर्ड भी बने हैं. नवाबों के शहर लखनऊ ने मानो इतिहास रच दिया है. करीब सौ साल बाद लखनऊ में बीजेपी की संयुक्ता भाटिया First Woman Mayor बनेंगी.  वहीं लखनऊ के वार्ड 34 तिलकनगर से 23 वर्षीय निर्दलीय प्रत्याशी शादिया रफीक रिकॉर्ड जीत दर्ज कर यहां की सबसे कम उम्र की पाषर्द बन गई हैं.




उत्तर प्रदेश में 1916 में म्युनिसिपल एक्ट बना था. उसके बाद यह पहला मौका है जब इन 100 सालों में लखनऊ के मेयर पद पर एक महिला ने कब्जा जमाया है. मेयर पद  के लिए बीजेपी की संयुक्‍ता भाटिया ने जीत हासिल की है. उन्हें  3,77,166 वोट मिले हैं.

MUST READ: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो में चूड़ियां फेंककर चर्चा में आई CHANDRIKA SOLANKI क्यों लड़ रही निर्दलीय चुनाव?

संयुक्ता भाटिया का परिवार आरएसएस से जुड़ा रहा. उनके पति सतीश भाटिया दो बार लखनऊ से भाजपा के विधायकर रह चुके हैं. इस सीट पर पहली बार भाजपा को जिताने का श्रेय भी उन्हें ही जाता है.

लखनऊ की यह सीट महिलाओं के लिए आरक्षित थी. बीजेपी, कांग्रेस, सपा और बसपा समेत सभी पार्टियों ने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे. कोई भी महिला उम्मीदवार जीतती इतिहास ही बनता. संयुक्ता भाटिया से पहले बीजेपी के दिनेश शर्मा यहां के मेयर थे जो अभी यूपी के उपमुख्यमंत्री है.




वहीं लखनऊ की सबसे कम उम्र की पार्षद बनने वाली शादिया अपने पिता के राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाने के लिए आगे आईं. वे एमिटी यूनिवर्सिटी से मास कॉम की पढ़ाई कर रही हैं लेकिन इस बार जब वार्ड 34 तिलकनगर महिला सीट बन गई तो उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला किया.

MUST READ: राहुल के साथ लेनी थी सेल्फी, बस रुकवाई और चढ़ गई राहुल के बस पर GUJARATI GIRL

शादिया के पिता रफीक 1989 में इस सीट से चुनाव लड़ कर पार्षद बने थे. इसके बाद यह सीट महिला के लिए आरक्षित हो गई तो वे चुनाव नहीं लड़ पाए. 2012 में उनके बेटे आदिल अमहद इस सीट से उतरे और निर्दलीय जीत भी हासिल की. इस बार शादिया ने रिकॉर्ड बना दिया.




उन्होंने भाजपा की अर्चना द्विवेदी को करीब 535 वोटों के अंतर से हराया. वे कहती हैं कि ‘उनके इलाके में पेयजल एक बड़ी समस्या है और सबसे पहले इस समस्या को ही दूर करेंगी.

दूसरी तरफ आशा शर्मा गाजियाबाद की मेयर बनी हैं. वे भारी अंतरों से जीती हैं. वे गाजियाबाद नगर निगम की दूसरी महिला मेयर बनी हैं. आशा शर्मा ने कांग्रेस की प्रत्याशी डोली शर्मा को कड़ी शिकस्त दी.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें