तो….इस वजह से है TRAVELLER HOSTEL यंग्स्टर्स की पहली पसंद

1777
Traveller Hostel
Image source: Images taken from all the links given in story of Traveller Hostel

डॉ कायनात क़ाज़ी:

ट्रैवलर, फोटोग्राफर, ब्लॉगर:

दोस्तों आपने Queen फिल्म तो ज़रूर देखी होगी. सोचा भी होगा कि काश आप भी कभी ऐसे ही किसी अनजान देश में  Traveler  बन कर जाते और कंगना रनोट की तरह Hostel में रह कर दुनिया देखते. लेकिन आप ने खुद को समझाते हुए यह तर्क दिया होगा कि Traveller Hostel का कोई Concept हमारे देश में नहीं है.




पर सच्चाई थोड़ी अलग है मेरे दोस्त. अब हमारे देश में भी वो सब होने लगा है जो कभी विदेशों में हुआ करता था, क्योंकि हम एक युवा देश हैं. यंगस्टर्स जितनी मेहनत से काम करते हैं उतनी ही शिद्दत से मज़े भी करना चाहते हैं इसी लिए हमारे देश में Travel Industry बूम पर है.




जैसे जैसे समय बदला है वैसे वैसे ट्रैवल करने के तरीके भी बदले हैं. अब कहीं ठहरने को लेकर केवल होटल ही एक मात्र विकल्प नहीं है. जो लोग कम बजट में ज़्यादा से ज़्यादा घूमना चाहते हैं उनके लिए तो होटल वैसे भी बजट से बाहर की बात होता है.

MUST READ: TRAVELपर जाने से पहले BAG PACK करते समय जरुर रखें इन 5 बातों का ध्यान

ऐसे में Traveller Hostel एक उम्दा विकल्प बनकर सामने आता है. यह कुछ कुछ ऐसा है जैसे कि पुराने ज़माने में सराय होती थी. मध्ययुग सराय एक ऐसा स्थान होता था जहां आने जाने वाले ठहरा करते थे। और वहां उनके खाने पीने तथा मनोरंजन आदि की व्यवस्था भी होती थी.




भले ही अब सराय का अस्तित्व न रहा हो लेकिन वो Concept अभी भी ज़िंदा है. ट्रैवेलर्स हॉस्टल को हम नए ज़माने की सराय कहें तो गलत नहीं होगा. हमारे यहां जो हॉस्टल पाए जाते हैं उनमे महिलाओं और पुरुषों के लिए अलगअलग डोरमेट्री होती है. जबकि यूरोप में बहुत सी जगह कॉमन डोरमेट्री होती है.

आइये जानते हैं ट्रैवलर हॉस्टल की कुछ खास बातें

1-इन हॉस्टल की सबसे अच्छी बात यह होती है कि आप कमरे के साथ साथ कॉमन रूम भी शेयर करते हैं. कुछ ऐसा समझिये जैसे परिवार के बाहर भी आपको एक परिवार मिल जाता है। जिसके साथ आप हंस बोल सकें, साथ खाएं-पीएं और घूमने के लिए कॉमन प्रोग्राम बनाएं.

Traveller Hostel2-ट्रैवेलर्स हॉस्टल जिन्हें बेगपैकर्स हॉस्टल भी कहा जाता है एक ऐसा स्थान होता है जहाँ ज़रूरत भर की सभी सुविधाएं होती है. यह होटल नहीं होते लेकिन होटल में से लग्ज़री निकाल दीजिये तो ठहरने के लिए होटल का विकल्प होते हैं और वो भी बहुत ही कम क़ीमत पर.

3-यहां एक बड़े से रूम में कई लोगों के सोने की व्यवस्था होती है. सिंगल बेड होता है, साथ ही सामान रखने के लिए छोटा-सा लॉकर और आपके बेड के सिरहाने पर रीडिंग लाइट और एक आराम दायक बिस्तर. साथ ही एक कॉमन टॉयलेट होता है जिसे आपको अपने रूम में रहने वाले साथियों के साथ शेयर करना होता है.

Traveller Hostel

MUST READ: FEMALE TRAVELLER जब अकेले ट्रैवल करें तो इन 5 बातों का ध्यान रखें

4- कुछ हॉस्टल में किचन होता है कुछ में नहीं.  ऐसे में आपको अपने खाने की व्यवस्था खुद करनी होती है. कहीं कहीं वाशिंग के लिए अलग से लॉन्ड्री एरिया भी होता है. आमतौर पर सभी होस्टल्स में फ्री वाई फाई की भी सुविधा होती है.

5- सबसे अच्छी बात यह है की यह हॉस्टल बड़े ही सेंट्रली लोकेटेड होते हैं. जैसे अगर मैं गोवा की बात करुं तो आपको ऐसे हॉस्टल बीच से वाकिंग डिस्टेंस पर ही मिल जाएंगे. वहीं उदयपुर में यह ओल्ड सिटी में लेक पिछोला के पास मिल जाएंगा. आगरा में ताज महल के बहुत ही नज़दीक के रिहायशी इलाक़े में मिल जाएंगे.

6-इनकी लोकेशन के कारण ही ऐसे हॉस्टल विदेशी ट्रेवलर्स में ख़ासे प्रसिद्ध होते हैं. जहां इन हॉस्टल में ठहरने के लिए एक रात का 300-400रूपए किराया देना होता है वहीं लोकेशन के कारण आपका लोकल ट्रांसपोर्ट का भी ख़र्चा बच जाता है.

सिर्फ स्टे नहीं और भी बहुत कुछ है खास

ऐसा कितनी ही बार होता है कि हम लाइफ में बहुत कुछ करना चाहते हैं मन में एक सपने की तरह पाल कर रखते हैं कि एक दिन में पहाड़ों में जाऊंगा, कैम्पिंग करुंगा, ट्रैकिंग करुंगा, जंगल में प्रकृति के नज़ारे देखूंगा लेकिन अपने डेली रूटीन से बाहर नहीं निकल पाते.

Pik courtesy: adventure.travel

अपने सपने को पूरा नहीं कर पाते क्योंकि दोस्तों के भरोसे रहते हैं. जब भी प्लान बनाते हैं पहले वे हां कर देते हैं और बाद में गायब हो जाते हैं. लेकिन दोस्तों यदि आपसे कहूं कि आप के सपने पूरे करने का इंतजाम कुछ बेगपैकर्स हॉस्टल कर देते हैं तो आपकी प्रतिक्रिया क्यो होगी?

ऐसे हॉस्टल में जहां ठहरने की व्यवस्था न सिर्फ कम पैसों में हो जाती है बल्कि स्टे भी बड़ा ही ट्रेडी होता है. आप को यायावरी की दुनिया के अलग अलग अनुभव होते हैं. यहां आप स्टे के अलावा खुद को एक्सप्लोर भी कर सकते हैं.

MUST READ: EUROPE जा रहे हैं पहली बार तो रखें इन 10 बातों का ख्याल

जैसे आप ट्रैकिंग पर जा सकते हैं, कैंपिंग कर सकते हैं, जंगल वॉक पर भी जा सकते हैं. जैसे कसोल को ही लीजिये. एक ट्रेवलर्स हॉस्टल है जिसका नाम है- द हॉस्टलर्स http://www.thehosteller.com यह न सिर्फ एक ठहरने की अच्छी जगह है बल्कि इनके साथ आप बड़े ही कम पैसों में आस पास के ट्रैक पर भी जा सकते हैं. ऐसे हॉस्टल में ट्रैकिंग करने और साथ में सामान उठाने के लिए लोडर की व्यवस्था भी कर दी जाती है.

सेफ्टी का भी है पूरा ख्याल

इन सब रोचक बातों के बावजूद एक बहुत ही अहम सवाल है सुरक्षा का. द हॉस्टलर्स नाम के हॉस्टल को चलाने वाले युवा एंटरप्रेनर प्रणव से जब हमने सेफ्टी के बारे में पूछा तो उनका का कहना है कि-” हमारे सारे हॉस्टल्स में सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं.

यहां तक कि डोरमेट्री में भी जहां आप लोगों के साथ रूम शेयर करते हैं. हम अपने हॉस्टल में लोकल लोगों को स्टे नहीं करवाते. विदेशी ट्रैवेलर्स के लिए हर दिन एक फॉर्म भरना होता है जो कि नज़दीक के पुललिस स्टेशन में जमा करवाया जाता है.

MUST READ: क्यों नहीं रोक पाएंगे खुद को TAJ MAHAL में इजहार-ए-मुहब्बत से…

हम ट्रैवेलर्स को देर रात तक बाहर रहने से जुड़े हुए दिशा निर्देश भी देते हैं और एक हेल्पलाइन नंबर भी. कभी भी आवश्यकता होने पर वह हमसे संपर्क कर सकते हैं. हम ट्रेवलर्स से उम्मीद करते हैं कि अगर वह अपने किसी मित्र के पास नाईट स्टे करने वाले हैं तो वह हॉस्टल में फ़ोन करके सूचित करें, जिससे हमें पता हो कि वह सुरक्षित हैं. लड़कियों के लिए यह हॉस्टल पूरी तरह सुरक्षित है.

कुछ हॉस्टल के लिंक्स

http://www.hostelbookers.com

http://www.hostelworld.com

http://www.itravellershostel.com

http://www.zostel.com

http://hostelavie.com

http://www.thehosteller.com

www.gostops.com

तो दोस्तों देर किस बात की, जब भी  घूमने का मौक़ा मिले पंख फैलाइये अपने पंख और दीजिये अपने सपनों को नई  उड़ान क्यूंकि होटल के भारी भरकम खर्च से निपटने का विकल्प तो मैंने आपको दे ही दिया है. अगली पोस्ट में ट्रेवल से जुड़े कई  और कारगर टिप्स आपके साथ शेयर करुंगी. तब तक बने रहिए हमारे साथ..

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें