जानिए क्यों एक बार में केवल 50 हजार लोग ही दर्शन कर पाएंगे MAA VAISHNO DEVI के

2182
vaishno_devi
vaishno_devi

यदि आप Maa Vaishno Devi के दर्शन करने के इच्छुक हैं और यात्रा पर जाने की तैयारी कर रहे हैं, तो यह ख़बर आपके लिए है.  अब Maa Vaishno Devi के दर्शन के लिए एक बार में केवल 50 हजार लोग ही एक बार में जा सकेंगे. ऐसा निर्देश दिया है नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने.

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने अपने निर्देश में कहा कि एक दिन में केवल 50 हजार लोग ही वैष्णो देवी आ-जा सकेंगे. यदि संख्या तय सीमा से अधिक होती है तो तीर्थयात्रियों को कटरा या अर्द्धकुमारी में रोक दिया जाएगा. एनजीटी का कहना है कि किसी भी हाल में माता के भवन पर श्रद्धालुओं की भीड़ जमा नहीं हो. 

MUST READ: चारों धाम को मोक्ष धाम क्यों कहा जाता है?

 

माता वैष्णो देवी की यात्रा पर हर दिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते है. जम्मू कश्मीर के कटरा तहसील से मां वैष्णो देवी की 14 किलोमीटर की यात्रा शुरू होती है. आमतौर पर गर्मियों की छुट्टियों के दिनों में यहां श्रद्धालुओं की संख्या काफी बढ़ जाती है. श्रद्धालुओं की अधिक संख्या के कारण माता के भवन पर दर्शन करने वालों की लंबी लाईन लग जाती है. 

वहीं एनजीटी ने वैष्णो देवी के पास नया निर्माण भी नहीं करने का निर्देश दिया है. वैष्णो देवी में केवल पैदल चलने वालों और बैट्री से चलनेवाली कार के लिए एक विशेष रास्ता 24 नवंबर से खोला जाएगा.
 

MUST READ: छुट्टी के लुत्फ के साथ चारों धाम के कहां होंगे दर्शन?

 

 

एनजीटी ने श्राइन बोर्ड से पैदल चलने वाले यात्रियों के लिए 24 नवंबर तक नए रास्ते खोलने का आदेश दिया है. माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड मां वैष्णो देवी भवन और यात्रा से संबंधित सभी सुविधाओं की देख रेख करता है. राज्य के राज्यपाल इसके प्रमुख होते हैं.

मां के दर्शन के लिए जाने वाले लोग आते-जाते रास्ते में कचरा और गंदगी भी फैला देते हैं. जिससे पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है. इसे रोकने के लिए एनजीटी ने कटरा में गंदगी फैलाने वालों पर 2000 रु. लगाया जुर्माना लगाने की भी बात कही है. 
 
 
Facebook Comments