18 साल से कम उम्र की MINOR WIFE से सेक्स किया तो रेप माना जाएगा-सुप्रीम कोर्ट

1116
Minor Wife

सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनया है. कोर्ट ने कहा है कि 15-18 साल की Minor Wife  के साथ सेक्स किया तो यह रेप माना जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि शारीरिक संबंध बनाने की उम्र सीमा घटा नहीं सकते. 15 से 18 साल की पत्नी के साथ संबंध बनाने को रेप नहीं मानने संबंधी कानून रद्द करने की मांग से जुड़ी याचिका पर कोर्ट ने यह फैसला दिया है. कोर्ट ने 6 सितंबर को फैसला सुरक्षित रखा था.




कोर्ट ने क्या कहा?

कोर्ट ने कहा कि शारीरिक संबंधों के लिए उम्र 18 साल से कम करना असंवैधानिक है. कोर्ट ने IPC की धारा 375 के अपवाद को अंसवैधानिक करार दिया. अगर पति  15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाता है तो रेप माना जाए. कोर्ट ने कहा ऐसे मामले में एक साल के भीतर अगर महिला शिकायत करने पर रेप का मामला दर्ज हो सकता है.




देश में बाल विवाह रोकने के लिए लड़कियों की शादी की उम्र 18 साल रखी गई है. केंद्र सरकार ने कोर्ट को ये दलील दी थी ये परंपरा सदियों से चली आ रही है इसलिए संसद इसे संरक्षण दे रहा है. यानी अगर कोई 15 से 18 साल की बीवी से संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा. केंद्र सरकार ने यह भी कहा- अगर कोर्ट को लगता है कि ये सही नहीं है तो संसद इस पर विचार करेगी.




क्या है मौजूदा कानून

सामान्य तौर पर संबंधों की सहमति के लिए सहमति की आयु 18 वर्ष मानी गई है, लेकिन मौजूदा कानून के मुताबिक यदि शादीशुदा महिला जिसकी उम्र 15 साल से ज्यादा है और यदि पति जबरदस्ती सेक्स करता है जाता है तो पति के खिलाफ रेप का केस नहीं बनता है. आईपीसी की धारा-375(2) का अपवाद कहता है कि 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति सेक्स करता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा. 15 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ सेक्स करना रेप करने पर केस दर्ज होने का प्रावधान है.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें