‘SAMBHAJI BHIDE जी’ क्या सचमुच आपके बगीचे के आम खाने से महिलाओं ने बेटों को जन्म दिया?

33
Sambhaji Bhide
Sambhaji Bhide

अक्सर नानी-दादी से ऐसी किंवंदतिया सुनी होगी कि एक साधु ने किसी रानी को एक फल दिया और उसे संतान की प्राप्ति हुई. पर आज के जमाने में किसी के ऐसे दावे को सुनकर आप को जरुर हैरानी होगी. भीमा-कोरेगांव हिंसा के बाद चर्चा में आए हिंदूवादी नेता Shambhaji Bhide ने ऐसा ही मिलता-जुलता एक विचित्र बयान दिया है.




Shambhaji Bhide ने कहा है कि उनके बगीचे का आम खाने के बाद कई महिलाओं ने बेटों को जन्म दिया है. उनका दावा है कि उन्होंने कई दंपत्तियों को अपने बगीचे का आम तोड़ कर खाने को दिया और उसके बाद उनके घर में बेटा हुआ.

Shambhaji Bhide के इस बयान पर विवाद पैदा हो गया है. एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने उनकी इस टिप्पणी की निंदा की है. वहीं अंधविश्वास विरोधी एक संगठन भी भिडे के खिलाफ खड़ा हो गया है. संगठव ने संभाजी भिडे के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है.




सुप्रिया सुले का कहना है कि ‘भिडे की टिप्पणी सुनकर वह एक मां और महिला के रूप में आहत हुई है. किसी भी महिला के लिए मां बनना और लड़के या लड़की को जन्म देना गर्व की बात होती है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस तरह की तुच्छ बात हो रही है.

READ THIS: हरियाणा की WOMAN IAS OFFICER ने अपने सीनियर पर लगाया यौन उत्पीड़न और धमकी देने का आरोप

महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के प्रदेश सचिव मिलिन्द देशमुख का कहना है कि भिडे का बयान अंधविश्वास और काला जादू रोधी कानून के तहत संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आता है और उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.




मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक Shambhaji Bhide ने सोमवार को नासिक में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा-आम शक्तिशाली और पोषक तत्वों से भरपूर होता है. मेरे बगीचे में आम खाने वाली कुछ महिलाओं ने बेटों को जन्म दिया.

SEE THIS: SHEHLA RASHID ने गडकरी और आरएसएस पर क्या लगाया गंभीर आरोप, क्यों आई बैकफुट पर?

कथित तौर पर उन्होंने अपने भाषण के दौरान रामायण और महाभारत से कई उदाहरण दिए और वर्तमान राजनीतिक और सामाजिक प्रणाली की आलोचना की. भिडे एक पूर्व आरएसएस कार्यकर्ता हैं.

आरएसएस के पूर्व कार्यकर्ता संभाजी भिड़े शिव प्रतिष्ठान संस्थान के प्रमुख हैं. 1 जनवरी को हुई भीमा कोरेगांव हिंसा के संबंध में वे भी मामले के आरोपी हैं. उनके खिलाफ पुणे के पिंपरी पुलिस स्टेशन में उनके खिलाफ केस दायर किया गया था.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें