क्या शरीर और मन के शुद्धिकरण के लिए भी है HOLIKA DAHAN का दिन?

845
Holika Dahan
Holika Dahan
Holika Dahan पाप पर पुण्य के विजय का उत्सव है, भक्त प्रह्ललाद के भक्ति को याद करने का अवसर है साथ ही यह Body-Mind के शुद्धिकरण का एक उचित समय है.

होलिका दहन के पावन पर्व पर जाने-अंजाने कर्मों के प्रदूषण से मुक्ति और शरीर के शुद्धिकरण की प्रक्रिया का उल्लेख प्राचीन ग्रंथों में विस्तार से किया गया है.

कहा गया है कि होलिका दहन के दौरान पूजा की सारी सामाग्री को अपने परिवार के सभी सदस्यों के सिर पर घुमा कर जलतो होलिका में ‘स्वाहा’ का उच्चारण करते हुए अर्पित कर दें तो यह प्रक्रिया शरीर और मन का शुद्धिकरण है. इससे शरीर और मन के विकार नष्ट हो जाते हैं.
इसी तरह होलिका की अग्नि में मन के विकार को भी नष्ट कर देना ही उचित है. शरीर शुद्ध हो जाए और मन अशुद्ध रहे तो किसी भी त्यौहार का आनंद नहीं लिया जा सकता.
इंसानी रिश्तों में उपजी कड़वाहट, गुस्सा, खीज, ईर्ष्या, लोभ, लालच सबको उसी अग्नि में भष्म कर अगले दिन होली मनानी चाहिए.
होली रंगों का उत्सव है और रंगों का हमारे जीवन में विशेष महत्व है. रंगहीन जिंदगी कैसी होती? लाल-पीला, गुलाबी, हरा रंग हमारे जीवन में खुशियां बिखेरते हैं. तो कितना अच्छा हो होलिका दहन के अवसर पर हम दूसरों की जिंदगी में रंग बिखरने का प्रण करें.

READ THIS: इन आसान 15 तरीकों से NATURALLY छुड़ाएं HOLI COLOURS

होली उमंग और उत्साह का त्यौहार है.  होलिका दहन करते समय यदि इस बात को अपने जीवन में उतार लें कि हम अपने जीवन में यूं ही उत्साह बनाए रखने के लिए दूसरों की जिंदगी में रंग भरने का काम करें और खुशियां बिखरें.

Holika Dahan

Happy Holiयदि ऐसा होता है तो होली वास्तव में आनंद पर्व बन जाएगा क्योंकि आनंद में ही जीवन है और जीवन में आनंद हो तो जीने का तरीका ही बदल जाता है. तो आईए इस होली किसी और के जीवन के लिए लाल-पीले रंग का आनंद घोल लें जमकर मनाएं आनंद वाली होली….

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें