ये हैं वो वजहें जिसके लिए PUDUCHERRY आपका अगला TRAVEL DESTINATION होना चाहिए

50

डॉ कायनात क़ाज़ी:

ट्रैवलर, ब्लॉगर, फोटोग्राफर :

Puducherry एक स्वप्न सा सजीला शहर जो संगम है कई सभ्यताओं का, उनकी संस्कृतियों का, उनकी आस्था का और परस्पर सौहार्द का.  यहां भेद हैं वर्ण के, भाषा और आस्था के फिर भी यह एक है.
Puducherry  बंगाल की खाड़ी के कोरोमंडल तट पर स्थित है. यह फ्रांसीसी उपनिवेश था. इसका मतलब स्थानीय तमिल में अर्थ नया गांव होता है.भारत का यह क्षेत्र लगभग 300 सालों तक फ्रांसीसी अधिकार में रहा है.
आज भी यहां French Architecture और संस्कृति देखने को मिल जाती है. पुराने समय में यह फ्रांस के साथ होने वाले व्यापार का मुख्य केंद्र था. एक शहर जो शान्त है, यहां शोर है तो सिर्फ समुद्र की लहरों का.




पुडुचेरी की यात्रा शुरू होती है चेन्नई से वाया ईस्ट कोस्ट हाईवे. जितना सुन्दर पोंडी है उतना ही हसीन वहां पहुंचने का सफर है. हाइवे के बाईं ओर लगातार आपके साथ चलता समुद्र तट. जलवायु में आद्रता होने के कारण यहां वर्ष भर हरियाली छाई  रहती है.

घुमावदार सड़क के दोनों ओर हरे भरे पेड़ झुके हुए ऐसे दिखते हैं जैसे मुसाफिर का झुक कर स्वागत करते हों. दूर तक लहलहाते खेत और नारियल के झाड़, बैकवाटर, मछलियां पकड़ते मछुवारे और गांव के किसान एक कम्प्लीट लैंडस्केप बनाते हैं.

चेन्नई से 56 किमी दूर महाबलीपुरम पड़ता है जो कि यूनेस्को द्वारा हेरिटेज धरोहर घोषित किया गया है. यहां प्राचीन काल के मंदिर और गुफ़ाएं हैं. कोरोमंडल समुद्र तट पर स्थित महाबलीपुरम शहर एक प्राचीन बंदरगाह है.

चेन्नई से छुट्टी मनाने जाने के पसंदीदा स्थानों में से यह एक है. यहां के ज्यादातर मंदिर काटी गई गुफा के आकार के हैं. इस शहर का एक मुख्य आकर्षण यहां के सुंदर और साफ समुद्र तट हैं. इन तटों पर मछली पकड़ने और बोटिंग जैसी कई गतिविधियां उपलब्ध हैं.




Puducherry में फ्रेंच स्टाइल के घर, सड़कें, इमारतें. ऐसा लगता है जैसे आप किसी यूरोपीय देश में घूम रहे हैं. कहा जाता है की जब फ्रांसीसी भारत आए तो यहां की जलवायु उनके लिए कठोर थी. इसलिए उन्होंने पानी के नज़दीक रहना बेहतर समझा और फ्रेंच लोगों के लिए ज़मीन के उस हिस्से का चुनाव किया जो.कि समुद्र तट के नज़दीक था.

आज इस जगह को फ्रेंच क्वाटर कहा जाता है. यहां के मूल निवासी तमिलियन्स जोकि कृषि से जुड़े काम करते थे उन्होंने समुद्र से दूर ऐसा भू भाग चुना जहां खेती की जा सके. उनके वाले हिस्से को नाम मिला “ब्लैक टाउन” और फ्रेंच लोगों की बस्ती को कहा गया “वाइट टाउन”. एक छोटी-सी नहर इन दोनों टाउन को बीच से अलग करती है.

MUST READ: इन कारणों से कभी मत छोड़िए नीदरलैंड की राजधानी AMSTERDAM जाने का मौका

वाइट टाउन में कोलोनियल आर्किटेक्चर और फ्रेंच कल्चर की झलक मिलती है. यहीं ब्लैक टाउन में पारम्परिक तमिल वास्तुकला को सहेजे कई मेंशन हैं जिन्हें हैरिटेज हॉटेल में परिवर्तित कर दिया गया है.




प्रोमेनाड बीच के नाम से प्रसिद्ध पुडुचेरी बीच यहां का प्रमुख आकर्षण है. शाम के समय तट पर ट्रैफिक की आवाजाही बंद कर दी जाती है जिससे समुद्र किनारे टहलने के लिए यह एक आदर्श जगह बन जाती है.

प्रोमेनाड बीच 1.5 कि.मी. में फैला है और शहर के सभी प्रमुख आकर्षण स्थान इसके आसपास ही हैं. यहां गांधी जी की विशाल मूर्ति है, एक पुराना लाइट हाउस भी है.

अरबिन्द्रो आश्रम के गेस्ट हाउस और प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद हुए सैनिको की याद में बनाया गया वॉर मेमोरियल, कुछ हैरिटेज होटल और ला-कैफ़े. ला-कैफे में बैठ कर कॉफी पीने  का अपना अलग ही मज़ा है.

नेपथ्य में समुद्र की लहरों का शोर और हल्की हल्की फुहारें सब कुछ दिल को लुभाने वाला. यहां बैठ कर सूरज की पहली किरण देखना बहुत लुभावना है.

यहां सुबह-सुबह बहुत चहल पहल हो जाती है. लोग मॉर्निंग वॉक  के लिए आते हैं। तो कोई पत्थरों पर बैठ कर ध्यान लगा रहा होता है. नेहरू स्टैचू के पास एक प्लेटफार्म पर लोग योग करते हैं.

SEE THIS: EUROPE जा रहे हैं पहली बार तो रखें इन 10 बातों का ख्याल

पुडुचेरी एक साफ सुथरा शहर है, यहां के निवासी सफाई को लेकर काफी जागरूक हैं. यहां पर प्रसिद्ध Aurobindo Ashram स्थित है. अरबिन्द्रो आश्रम के अनुयायी देश विदेश से यहां आते हैं. व्हाइट टाउन में श्री अरबिन्द्रो आश्रम का डाइनिंग हॉल, पुस्तकालय व कई गेस्ट हॉउस स्थित है.

जिन इमारतों का रंग सुरमई है वह श्री अरबिन्द्रो आश्रम की इमारतें हैं. यहां ठहरने के लिए आप पहले से बुकिंग कर सकते हैं. सिंगल ट्रैवलर के लिए यह एक सुरक्षित और अच्छा विकल्प है, पर यहां आश्रम के कुछ नियम है जिनका आपको पालन करना होगा जैसे -शराब और धूम्रपान निषेध है.

Puducherry Museum एक अन्य देखने लायक जगह है. संग्रहालय में एक गैलरी है जिसमें अनेक मूर्तियां और अरिकामेडु रोमन व्यवस्था के समय की अनेक महत्वपूर्ण पुरातत्वीय वस्तुएं हैं.

यह संग्रहालय प्राचीनकाल की दुर्लभ कलाकृतियों का भंडारगृह है. यहां प्रदशित संग्रह में चोल और पल्लव राजवंश की अनेक दुर्लभ पीतल की मूर्तियां और पत्थर सम्मिलित हैं.

READ THIS: घूमने-फिरने और मस्ती के लिए HOT DESTINATION माने जाने वाले THAILAND की ये है खास बातें

Puducherry Museum में पांडिचेरी क्षेत्र से लाई गई सीपियों का भी एक बहुत अच्छा संग्रह है. यह संग्रहालय आने वालो को पुडुचेरी के औपनिवेशिक अतीत के बारे में जानने का अवसर देता है.

पोंड़ी मशहूर है अपने फ्रेंच कनेक्शन के लिए और इसी से जुड़े हैं कई सुन्दर Churches. यहां काफी चर्च है जिनमे एक चर्च बीच रोड से लगा हुआ ही है, दूसरा चर्च ब्लैक टाउन में है वहीं तीसरा- “ Sacred Heart Church (सैक्रेड हार्ट चर्च ऑफ जीसस)” रेलवे स्टेशन के नज़दीक पुडुचेरी के सबसे प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण चर्चों में से एक है.

यह चर्च वास्तुकला की गोथिक शैली में डिज़ाइन किया गया है इस चर्च की सबसे आकर्षक और आसानी से नज़र आने वाली विशेषता है इसकी स्टेन्ड कांचयुक्त खिड़कियां जो यीशु के जीवन के समय को दर्शाती हैं. यह चर्च एक ऐसी जगह है जो आने वालो को शांति और सुकून का अहसास देता है.

यहीं नज़दीक में ऑरो बीच स्थित है, यह एक स्विमिंग Beach है. जो अपनी खूबसूरती के कारण यात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है. यहां कई बीच रिसोर्ट, गैस्ट हाउस और रेस्टोरेन्ट  भी मौजूद हैं. अगर आप ऐसे बीच पर जाना चाहते हैं जहां बहुत शान्ति हो तो Serenity beach  जाएं.

Booking.com (Pik Courtesy: Booking.com)

पुडुचेरी क्योंकि कई सभ्यताओं का संगम है इसलिए यहां के Cuisine में बहुत वेरायटी मिलती है. शुद्ध दक्षिण भारतीय शाकाहारी भोजन से लेकर, चेट्टीनाड मांसाहारी भोजन, उत्तर भारतीय भोजन और फ्रेंच फ़ूड सब कुछ मिल जाता है.

जब आप यहां आएं तो एक्टेसी कैफे का पिज़्ज़ा ज़रूर टेस्ट करें. पुडुचेरी में बैकवाटर का मज़ा भी लिया जा सकता है. वाइट टाउन से 8 किमी दूर पैराडाइज़ बीच एक ऐसा बीच है जहां आपको फेरी से जाना पड़ेगा.

इस बीच पर वॉटर स्पोर्ट्स की भी व्यवस्था है. पोंडी में घूमने के लिए आप स्कूटी या बाइक रेन्ट पर ले सकते हैं. वैसे साईकिल भी एक अच्छा विकल्प है. यहां शॉपिंग करने के लिए नेहरू स्ट्रीट और महात्मा गांधी रोड अच्छी मार्केट हैं.

Puducherry में खास बात है कि यहां सब कुछ आसपास है. अगर आप शान्ति की तलाश में जा रहे हैं तो Weekend में न जाएं.  वीकेंड में यहां आसपास के शहरों से काफी लोग घूमने आते हैं.

यहां के लोग मिलनसार और मदद करने वाले हैं. हां यहां के ऑटो रिक्शा वाले टूरिस्ट को बेवक़ूफ़ बनाने में पीछे नहीं हटते इसलिए थोड़ी बार्गेनिंग सीख कर जाएं. एक ज़रूरी बात, पोंडी पहुंच कर टूरिस्ट इनफार्मेशन सेन्टर से सिटी गाइड बुकलेट और सिटी मैप लेना न भूलें.

फिर मिलेंगे दोस्तों, भारत दर्शन में किसी नए शहर की यात्रा पर, तब तक खुश रहिये,और घूमते रहिये,

एक शेर मेरे जैसे घुमक्कड़ों को समर्पित

सैर कर दुनियां की ग़ाफ़िल ज़िन्दिगानी फिर कहां

ज़िन्दिगानी  गर रही तो नौजवानी फिर कहां

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें