प्रीति की होगी UTTAR PRADESH से प्रीत?

9175
yogi-preeti

प्रतिभा ज्योति:

यूपी की राजनीति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद क्या कोई और गुजराती आने वाला है? बीजेपी के राजनीतिक सर्किल में एक गुजराती महिला की एंट्री योगी आदित्यनाथ की जगह होने की चर्चा ज़ोरों पर है. यूपी में विधानसभा चुनावों में भारी बहुमत मिलने के बावजूद वहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अभी एमएलए नहीं हैं क्योंकि उन्होंनें विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था. उन्हें सांसद पद से इस्तीफा देकर विधानसभा चुनाव लड़ना होगा.

योगी आदित्यनाथ सीएम होने के साथ-साथ अभी लोकसभा सांसद भी हैं. 17 जुलाई को राष्ट्रपति का चुनाव होना है. माना जा रहा है कि इस चुनाव के बाद वे सांसद पद से इस्तीफा दे देंगे. योगी के बाद गोरखपुर से सांसद कौन होगा या कौन लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में मैदान में होगा इस पर कयास लगाये जाने लगे हैं.

गोरखपुर संसदीय सीट योगी आदित्यनाथ की अजेय सीट मानी जाती है. इस सीट पर  गोरखनाथ मंदिर का कई दशक से कब्जा रहा है. योगी से पहले उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ यहां से सांसद रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ को इस सीट को छोडऩा पड़ेगा क्योंकि सीएम को विधानसभा या विधानपरिषद का सदस्य होना अनिवार्य है. इसके लिए उनके पास सीएम बनने के बाद से 6 महीने का वक्त है.

पार्टी नेताओं  का कहना है कि कई दावेदार हैं, लेकिन पार्टी किसी को नाराज नहीं करना चाहती. ऐसे में हो सकता है कि यहां से किसी बाहरी नेता को मैदान में उतारने पर पार्टी विचार करे. पार्टी सूत्रों का कहना है कि  सीएम योगी की जगह पीएम  नरेन्द्र मोदी की करीबी गुजरात की व्यवसायी प्रीति महापात्रा गोरखपुर सदर सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ सकती हैं.

मशहूर बिजनेसमैन हरिहर महापात्रा की पत्नी प्रीति महापात्रा प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान में साथ देते हुए गुजरात के नवसारी में दस हजार शौचालय बनवा कर चर्चा में आई थीं.  प्रीति ने पिछले साल जून में राज्यसभा का चुनाव भी लड़ा था, लेकिन वह हार गईं थीं और राज्यसभा नहीं पहुंच पाईं. अब उन्हें लोकसभा भेजने की तैयारी चल रही है. माना जा रहा है कि योगी के इस्तीफे के बाद वह गोरखपुर सदर सीट से बीजेपी की उम्मीदवार हो सकती हैं.

दूसरी तरफ सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर देहात सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे. अभी यहां से उनके करीबी विपिन सिंह बीजेपी से विधायक हैं. विपिन सिंह ने भी योगी के लिए अपनी सीट छोड़ने की पेशकश की है.