FREE YOGA सीखा कर कितनों के जीवन में खुशियां लाई है प्रमिला सिंह ?

25761
Pramila Singh
Pramila Singh, Yoga teacher

जूली जयश्री:

आज के पूंजीवादी युग में जहां हर किसी की प्राथमिकता महज पैसा कमाना रह गया है, ऐसे में लोगों की मुस्कुराहट की वजह बनना भी कोई अपनी कमाई मान सकता है, एकबारगी तो यह सुनकर यकीन नहीं आता. लेकिन Pramila Singh एक ऐसी ही शख्सियत हैं जो पिछले 30 साल से गाजियाबाद के अलग अलग जिले में लोगों को Yoga की नि:शुल्क शिक्षा दे रही हैं. अब जहां शिक्षा से लेकर हुनर तक सब बिकाऊ हो गया है वैसे माहौल में मुफ्त में लोगों को योग की शिक्षा देने और बीमारियों से मुक्त रखने का संकल्प लेने वाली अखिल भारतीय योग संस्थान की महिला प्रकोष्ठ प्रभारी  प्रमिला जरुरतमंद लोगों के लिए किसी देवदूत से कम नहीं हैं. वे इस सेवा को अपना सौभाग्य मानती हैं.




MUST READ: YOGA से कैसे करें THYROID पर कंट्रोल ?

 

वे बताती हैं कि मैं बचपन से ही योग करती थी. भारतीय योग संस्थान से योग की शिक्षा ली. भुवन चंद सती जी मेरे गुरु थे, वे भी मुफ्त में ही लोगों को योग सिखाते थे तभी से ही मेरे मन में ये सवाल रहता था कि आखिर ऐसा करके उन्हें क्या मिलता है. यही जिज्ञासा मुझे उनकी राह पर चलने के लिए प्रेरित करने लगी और मैंने जाना कि जो सुख इसमें है वो किसी और बात में नहीं. उन्होंने शुरु में कुछ दिन तक स्कूल शिक्षिका के तौर पर काम किया, लेकिन एक समय ऐसा आया जब योग या नौकरी में से किसी एक को चुनने की चुनौती उनके सामने आ गई तो उन्होंने योग को ही चुना. पर उन्होंने तय कर लिया कि योग को कभी कमाई का जरिया नहीं बनाऊंगी.




MUST READ: अपने बच्चों में भी डालिए YOGA HABITS

 

प्रमिला मानती हैं कि लोग गलत सोचते हैं कि मैं कमाती नहीं हूं. मैं लोगों का अपार स्नेह कमा रही हूं . जब लोग रोग से मुक्त होने तनाव से निकलने और आत्मविश्वास से भरने का श्रेय मुझे देते हैं तो मैं अपने आपको सबसे अधिक धनवान महसूस करती हूं. मुझसे लाभान्वित हो चुके हजारो लोगों की खुशी मेरे जीवन की पूंजी है. वे बताती हैं कि उनके इस काम में उनके पूरे परिवार का पूरा सहयोग मिला.




बचपन से योग करने के कारण उनका आत्मविश्वास हमेशा मजबूत रहा और सौभाग्य से मां बाप के बाद पति का भी साथ मिला. उनका कहना है कि मेरे पास आने वाले सभी लोगों से भी मेरा यही कहना रहता है कि औरत हो या मर्द पहले खुद से प्यार करना सीखें. आत्मसम्मान रखने वाला व्यक्ति ही समाज या देश से प्रति प्रेम कर सकता है .

 

 

 

 

 

Facebook Comments