अपनी बेटी को गोद में लेकर PAKISTAN की इस NEWS ANCHOR ने क्यों पढ़ा बुलेटिन?

1205
News Anchor
Kiran Naaz, Pakistani anchor

आखिर ऐसा क्या हुआ कि पाकिस्तान की एक जानी-मानी News Anchor को अपनी बेटी को गोद में लेकर शो करना पड़ा? Pakistan की समा टीवी की News Anchor किरन नाज ने गुरुवार को अपनी बेटी को गोद में लेकर एक न्यूज शो होस्ट किया.

किरन नाज ने ऐसा ‘पाकिस्तानी निर्भया’ के साथ रेप और मर्डर के विरोध में ऐसा किया. पूर्वी पाकिस्तान में आठ साल की बच्ची जैनब के साथ हुए इस दर्दनाक घटना के विरोध के लिए नाज ने जो तरीका अपनाया उसने सबको भावुक कर दिया. इस पाकिस्तानी एंकर की हर जगह तारीफ हो रही है.




WATCH THIS: ANCHOR प्रतिमा दत्ता का घूंघट विरोध का अनूठा तरीका

नाज ने अपने लाइव न्यूज बुलेटिन में अपनी मासूम बेटी को अपनी गोद में बिठा दिया और बेहद भावुक अंदाज में बताया कि बच्ची की हत्या ने पाकिस्तान की बच्चियों और महिलाओं पर किस तरह का असर डाला है. नाज ने जब न्यूज पढ़ना शुरु किया तो थोड़ी ही देर बाद उनकी बच्ची ने परेशान करना शुरु कर दिया और उन्होंने बच्ची को गोद से उतार दिया.




न्यूज बुलेटिन की शुरुआत करने हुए नाज ने कहा-“आज मैं टीवी होस्ट किरन नाज नहीं, बल्कि एक मां की हैसियत से अपनी बच्ची के साथ यहां बैठी हूं. इस मुल्क में एक दिन में दर्जनों लोगों का शहीद हो जाना बड़ी बात नहीं है. कौन मारता है क्यों मारता है इस सवाल का जवाब कभी नहीं मिलता. मगर किसी ने कहा है-जनाजा जितना छोटा होता है, उतना ही भारी होता है. “




नाज ने उस घटना का जिक्र करते हुए कहा-आज एक ऐसा ही जनाजा कासुर (पूर्वी पाकिस्तान)  की सड़कों पर रखा है. पूरा पाकिस्तान उसके बोझ तले दबा हुआ है. उधर मां बाप जब उसके लिए खिलौने खरीद रहे थे, तब कोई उसी वक्त उसकी लाश को कचरे में फेंक रहा था.

अफसोस फिर जांच बैठेगी, कमेटी और कमीशन की बातें होंगी, मगर उस बच्ची को इंसाफ कयामत के वक्त मिलेगा. जब वो कब्र से उठ कर पूछेगी-मेरे साथ ही ऐसा क्यों, मुझे किस जुर्म में मारा था. बस इसके अलावा आज मेरे पास कुछ नहीं है बताने को….

MUST READ: NIRBHAYA-तुम चले गए, पर यहां कुछ नहीं बदला, हमें अब भी रोज डर लगता है

पूर्वी पाकिस्तान में आठ साल की बच्ची के साथ रेप और मर्डर की तुलना दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को हुए निर्भया कांड से की जा रही है. पूर्वी पाकिस्तान के कासुर से इस बच्ची का पिछले सप्ताह अपहरण कर लिया गया था. बच्ची के मां-बाप उमराह (तीर्थयात्रा) करने गए थे और बच्ची को एक रिश्तेदार के पास छोड़ गए थे.

दो दिन पहले ही बच्ची का शव एक कचरे के डब्बे में पड़ा मिला. इस घटना के विरोध में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में दंगे भी भड़क गए हैं और लोग सड़कों पर उतर आए हैं. लोग जैनब को इंसाफ देने की मांग कर रहे हैं. उसके पिता ने कहा है कि जब तक दोषियों को पकड़ा नहीं जाता वे बेटी का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें