‘बच्चे को दूध पिला रही मां तो ग़लत क्या’- KERALA HC ने कहा OBSCENITY देखने वाले के आंखों में होगी, हमें तो कुछ अश्लील नहीं लगा

1194
Obscenity
no obscenity in the picture of women breastfeeding photo- kerala-HC

Obscenity (अश्लीलता) देखने वालों की आंखों में होती है तस्वीर में नहीं. यह कहते हुए  Kerala HC ने बच्चे को दूध पिलाती मॉडल का फोटो कवर पेज छापने वाली एक मलयालम पत्रिका पर कार्रवाई के लिए दायर याचिका को खारिज कर दिया.




कोर्ट ने कहा कि एक वय्क्ति किसी चीज को Obscenity मानता है लेकिन वही चीज दूसरे के लिए कलाकृति हो सकती है. एक व्यक्ति जिस चीज को बेहूदा मानता है वही दूसरे के लिए गीत बन जाती है.

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक न्यायमूर्ति एंटनी डोमिनिक और न्यायमूर्ति दामा शेषाद्रि नायडू की पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘हमारी बहुत कोशिश के बाद भी हमें तस्वीर में कुछ भी ऐसा नहीं लगा जिसे Obscenity माना जाए. न ही फोटो के कैप्शन में कुछ आपत्तिजनक है.




READ THIS: BREASTFEEDING के वो फायदे जो जानना जरुरी है

पीठ ने कहा हम तस्वीर को उन्हीं नजरों से देख रहे हैं जिन नजरों से हम राजा रवि वर्मा जैसे कलाकारों की पेंटिंग्स को देखते हैं.’ जैसी खूबसूरती देखने वालों की आंखों में होती है, वैसे Obscenity भी शायद देखने वालों के आंखों में होती है.




‘गृहलक्ष्मी’ नाम की मलयालम मैगजीन ने इस साल मार्च के एडिशन में बच्चे को दूध पिलाने वाली मॉडल का कवर फोटो छपा था, जिस पर काफी विवाद हो गया. फोटो का कैप्शन था ‘घूरो मत, हमें स्तनपान कराना जरूरी है.’ ये ओपन ब्रेस्टफीडिंग के लिए एक कैंपेन का हिस्सा था.

SEE THIS: BREASTFEEDING कराने वाली मांओं में क्यों होता है ह्रदय रोग का RISK कम

इस कवर फोटो को लेकर खूब शोर-शराबा मचा. कई लोगों ने इसे अश्लील करार दिया और कहा कि इससे उनकी भावनाएं आहत हुई.  ब्रेस्टफीडिंग करा कर फोटो खिंचवाने वाली मॉ़डल का नाम Jilu Joseph है. इस तस्वीर पर हंगामा करने वालों के मुताबिक यहां बच्चे को व्यावसायिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया गया.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें