कहां 50 फीसदी PCR VAN में बढ़ेगी महिला पुलिसकर्मियों की संख्या?

605
PCR Van
Number of women police will increase in 50% pcr van of delhi

दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा एक बड़ा सवाल है. आए दिन महिलाओं और बच्चियों से होने वाले रेप और छेड़छाड़ और झपटमारी जैसी घटनाओं के कारण महिलाएं असुरक्षा महसूस करती हैं. इसी गंभीर मुद्दे को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से ठीक पहले अपने 50 फीसदी PCR Van में महिला पुलिसकर्मियों की तैनाती का फैसला किया है.




READ THIS: मुंबई फायर ब्रिगेड ने रचा इतिहास, 97 महिलाओं को बनाया FIREFIGHTERS

इसकी शुरुआत कल से यानी 8 मार्च से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके से की जा रही है. हालांकि महिला पुलिसकर्मियों की यह तैनाती अभी केवल दिन के शिफ्ट के लिए होगी लेकिन फोर्स में महिलाओं की संख्या बढ़ने पर बाकी बचे पीसीआर वैन में भी उनकी तैनाती होगी.




8 मार्च को महिला पुलिसकर्मियों से लैस 7 और पीसीआर वैन दिल्ली की सड़कों पर उतरेगी. इस वैन में गनमैन और चालक से लेकर वाहन इंचार्ज महिला पुलिसकर्मी ही होंगी. इस तरह दिल्ली में महिला पुलिसकर्मियों से लैस की पीसीआर वैन की संख्या अब 12 हो जाएगी.

READ THIS: DELHI में झपटमारों को तगड़ा सबक सिखाएगी WOMEN POLICE

दिल्ली पुलिस ने पीसीआर वैन के लिए 21 महिला पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षित किया है. इसमें से 7 महिला को चालक और 7 को गनमैन की ड्यूटी के लिए ट्रेनिंग दी गई है. 7 पीसीआर वैन इंचार्ज की जिम्मेदारी संभालेंगी.




महिला पुलिसकर्मियों से लैस दो पीसीआर नार्थ और साउथ कैंपस में तैनात की जाएगी. जबकि तीन पीसीआर वैन को सबसे ज्यादा भीड़भाड़ वाले तीन मेट्रो स्टेशनों पर लगाया जाएगा.

दिल्ली में हर दिन क़रीब 48 महिलाएं किसी न किसी अपराध का शिकार होती हैं. जिसमें रेप, छेड़छाड़. अश्लील इशारे, दहेज हत्या, दहेज प्रताड़ना और अपहरण जैसी कई वारदातें शामिल है. पीसीआर पर रोजाना 22-23 हजार कॉल आते हैं. महिलाओं पर होने वाले अपराध से निबटने के लिए दिल्ली में अभी 8 हजार महिला पुलिस की जरुरत है.

(साभार-हिन्दुस्तान)

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें