भारतीय पंरपरा में WOMEN POWER के सामने कौन सी चुनौतियां है और क्या है भारतीय नारीवाद?

212
stri shakti
stri shakti

संयोगिता कंठ:

भारतीय परंपरा के दृष्टिकोण से नारीवाद क्या है इसी बात को समझने के लिए ‘द ग्रुप ऑफ इंटलेक्च्युअल एंड एकेडमिशियन’ (GIA), इंडियन इंस्टिय्चूयट ऑफ मास कम्यूनिकेशन (IIMC) और प्रज्ञा प्रवाह मिलकर भारतीय परंपरा में स्त्री-शक्ति (Women Power) पर दो दिवसीय सेमिनार का आयोजन कर रहा है.

यह सेमिनार 27 और 28 जनवरी 2018 को जेएनएयू कैंपस स्थित आईआईएमसी में आयोजित किया जाएगा. जीआईए की संयोजक मोनिका अरोड़ा कहतीं है दुनिया में स्त्री विमर्श का बहुत बड़ा स्थान है. परिवार से लेकर राष्ट्रवाद तक हर मुद्दा महिलाओं का मुद्दा है. महिलाओं का दखल अब हर जगह बढ़ रहा है लेकिन कुछ समय से हमारे यहां नारीवाद की बात पश्चिम के चश्मे से देख कर किया जाता है, भारतीय परंपरा के हिसाब से नहीं.




MUST READ: हां, उनमें है अपने RIGHTS के लिए बोलने और ग़लत का विरोध करने का साहस

वे कहती हैं पश्चिम की महिलाओं को बराबरी के अधिकार के लिए लड़ना पड़ा है लेकिन भारत में महिलाओं को आजादी के बाद पुरुषों के बराबर का दर्जा दिया गया. हालांकि प्रैक्टिस में यह बात उतनी नहीं है अभी भी कई कुरीतियां है लेकिन महिलाएं इसके लिए कानून का सहारा लेकर लड़ रही हैं.

पश्चिम की महिलाएं ब्रा बर्निंग की बात करती हैं लेकिन हमारे यहां चिपको आंदोलन होता है. हमारे यहां अपने आदर्श है हम भारतीय परिप्रेक्ष्य में नारीवाद की बात करे. कौन कहता है कि महिलाओं की आजादी का विचार पश्चिम की देन है?  महिला अधिकारों और उसके सशक्तीकरण की बात इस देश में तब से होती रही है, जब शायद दुनिया के अन्य हिस्सों में सभ्यताओं ने ठीक से से साांस लेना भी शुरू भी नहीं किया था.

मोनिका अरोड़ा बताती हैं कि आज की सामाजिक परिस्थिति में महिलाओं के सामने कई चुनौतियां है और इस सेमिनार में स्त्री शक्ति और स्त्री विमर्श के सभी पहलूओं पर चर्चा की जाएगी जिससे कि वर्तमान चुनौतियों का कोई हल निकाला जा सके. इस सेमिनार में उस नारीवाद की बात की जाएगी जो हमारा है और जो भारतीय महिलाओं के दृष्टिकोण हैं.

READ THIS: #MyFirstBlood CAMPAIGN पहुंचा प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय गांव ‘नागेपुर’

सेमिनार के पहले दिन यानी 27 जनवरी के सम्मानित अतिथियों में डॉ गोपाल कृष्ण, नंद कुमार, केजी सुरेश, ललिता कुमार मंगलम, सोनल मानसिंह और डॉ प्राची प्रकाश जावड़ेकर शामिल हैं. सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ अधिवक्ता मोनिका अरोड़ा सेमिनार को संबोधित करेंगी.

 

उद्घाटन सत्र के बाद और भी तीन सत्र होंगे जिसमें कई वक्ता और चितंक अपनी बात कहेंगे. वहीं दूसरे दिन के सत्र में भारतीय महिलाओं की रुढिवादी छवि बनाने में मीडिया की भूमिका पर सर्जना शर्मा, स्मिता प्रकाश जैसे वरिष्ठ महिला पत्रकार अपनी बात रखेंगी. इसके बाद के सत्रों में भारतीय महिलाओं की सफलता की कहानी और भारत के सामाजिक राजनीतिक आंदोलन में महिलाओं की भूमिका पर चर्चा होगी.

GIA का संक्षिप्त परिचय-

यह बुद्धिजीवी और पेशेवर महिलाओं का वह समूह है जिसका गठन वर्ष 2014 में एक ऐसे बदलते सामाजिक-राजनीतिक माहौल में हुआ था, जब राजनीतिक शोर शराबा एकदम अपने चरम पर था. बहुत ही मंथन के बाद जीआईए अपने इस स्वरूप में 11 जनवरी  2015 को आया जिसमें सशक्त स्त्रियां एक उद्देश्य को लेकर इसके साथ जुड़ी थीं.

पिछले दो सालों में जीआईए में देश में होने वाली सामाजिक-राजनीतिक घटनाओं की प्रतिक्रिया में एक तथ्य आधारित और वैकल्पिक आवाज़ देने की कोशिश की है.

इसकी टीम में राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित, प्रो-वाइस चांसलर्स, सीनियर एडवोकेट, यूनिवर्सिटी के शिक्षक, पत्रकार और उद्यमी शामिल हैं. जीआईए कानून-लागू करने वाली एजेंसियों से महिलाओं के खिलाफ अपराध के लिए कार्रवाई करने के लिए दबाव डालता है. इस संगोष्ठी के माध्यम से एक बार फिर जीआईए भारतीय महिलाओं के मुद्दों पर अग्रसर हो रहा है.




आईआईएमसी-

17 अगस्त 1965 को स्थापित, भारतीय संचार संस्थान (IIMC) ने अपना सफ़र कुछ कर्मचारियों के साथ शुरू किया और जिसमें कुछ मीडिया प्रशिक्षण पाठ्यक्रम शुरु हुआ और कुछ शोध होने लगे.

कुछ सालों के भीतर यह पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम के साथ-साथ अल्पावधि पाठ्यक्रमों का केंद्र बन गया. समय के साथ आईआईएमसी ने विस्तार किया है और अब नियमित स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम प्रदान करता है.

प्रज्ञा प्रवाह

प्रज्ञा प्रवाह एक सामाजिक संगठन है, जो ऐसे शोधकर्ताओं और विश्वविद्यालय के शिक्षकों को एक मंच प्रदान कर रहा है, जिन्हें पिछले 70 वर्षों से केवल विचारधारा के आधार पर कार्य नहीं करने दिया गया है.




यह संगठन सामाजिक और राजनीतिक महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर बहस करने के लिए नियमित रूप से संगोष्ठी और सम्मेलनों का आयोजन करता है.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें