#MyFirstBlood-FIRST TIME पीरियड हुआ तो ‘मां’ ने न कुछ बताया न समझाया

1402
First Time

#MyFirstBlood कैंपेन की 11वीं कड़ी में आज पढ़िए वाराणसी की हाउसवाइफ रंजू सिंह के अनुभव. वे ‘मुहीम एक सार्थक’ संस्था की संस्थापक स्वाति सिंह की मां भी है. स्वाति लंबे समय से माहवारी के मुद्दे को उठा रही हैं. उन्हें खुशी है कि आज उनकी मां भी इस कैंपेन का हिस्सा बनी. रंजू सिंह बताती हैं कि First Time पीरियड हुआ तो मां ने कुछ नहीं बताया.




रंजू सिंह:

मुझे अच्छी तरह याद है जब First Time मेरा पीरियड शुरु हुआ तो मां ने इस पर मुझसे कोई बात नहीं की और न ही मुझे कुछ समझाया. स्कूल में मैंने सहेलियों से अक्सर इस बारे में कुछ न कुछ सुना था. तभी मुझे ये जानकारी हुई कि इस दौरान हमें कपड़ा लेना चाहिए और यह ठीक रहता है.




MUST READ: #MYFirstBlood-PICKLE को कैसे पता मेरा पीरियड चल रहा है और उसे छूआ तो ख़राब हो जाएगा

पीरियड शुरु हुए तो सहेलियों की वह बात याद आ गई.  मैंने भी यही किया. लेकिन मां को जब इस बात का आभास हुआ तो उन्होंने इसके बारे में मुझसे ये कहा कि देखो अब तुम ‘ अचार-पापड़ बिल्कुल मत छूना और न ही पूजा के किसी समान को छूना.’




स्वाति सिंह ,रंजू सिंह

ऐसा नहीं करने की मुझे सख्त हिदायत मिली और इस तरह बचपन मे पीरियड को लेकर मेरी समझ बस यहीं तक ही सिमट कर रह गयी. लेकिन आज बेहद खुशी होती है कि मेरी बेटी इस मुद्दे पर काम कर रही है. जिस बात को हम शर्म और झिझक का विषय मानते रहे और जिस पर मैं अपनी चुप्पी कभी नहीं तोड़ पायी मेरी बेटी इस पर दूसरों की चुप्पी तोड़ने का काम कर रही है.

MUST READ: #MYFirstBlood-न अचार सड़ा और न PLANTS खराब हुए जिसमें मैंने पीरियड में छूआ था

मुझे अपनी बेटी के काम पर गर्व है. अच्छा लग रहा है कि उसकी संस्था मुहीम, वुमनिया और लोक समिति मिलकर पीरियड पर लड़कियों की चुप्पी तोड़ने का काम कर रहे हैं. पीरियड पाबंदियों का नाम नहीं है बल्कि यह एक शारिरिक प्रक्रिया है जिस पर हर मां को अपनी बेटी के साथ खुल कर बात करनी चाहिए.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

Facebook Comments