पहचानिए वो कौन से लक्षण है जिससे आपको होता है HEADACHE

1162
Headache
Must know, what is the reason behind the headache

सुमन बाजपेयी:

इस बात से नकारा नहीं जा सकता है कि Headache बहुत ही असहनीय बीमारी होती है, हालांकि कई बार इसे हम गंभीरता से नहीं लेते हैं और पेन किलर्स खाकर थोड़े समय के लिए इससे निजात पा लेते हैं. बेशक यह एक आम बीमारी है, पर इसे गंभीरता से न लेना कई बार जानलेवा भी बन सकता है.




1-साधारण सिरदर्द

आमतौर पर कभी-कभी यों ही हो जाने वाला साधारण सिरदर्द थकान के कारण होता है. लगातार एक ही काम करते रहने, बोरियत, झुके रहने, ट्रैफिक जाम में फंस जाने, धूप में ज्यादा देर बाहर रहने या गर्मी की वजह से, समय पर खाना न खाने और नींद पूरी न होने, रात देर तक जागकर काम करने से सिरदर्द हो जाता है.




इस स्थिति में सबसे पहले आवश्यक है अपनी दिनचर्या में सुधार करना और अपनी डाइट पर ध्यान रखना. अगर एक ही जगह बैठकर लंबे समय तक काम करना पड़ता है तो बीच-बीच में ब्रेक लें.

MUST READ: YOGA से कैसे करें THYROID पर कंट्रोल?

काम करते-करते कंप्यूटर स्क्रीन पर से आंखें हटाकर बंद करके बैठ जाएं. दिन भर में आठ-दस गिलास पानी पीएं. पेन किलर्स बिना डाक्टर की सलाह के बिलकुल न लें.




2-स्ट्रेस से सिरदर्द

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में बच्चे से लेकर युवा हर आयु वर्ग के लोग Tension में होते हैं. छोटी-बड़ी हर बात पर  टेंशन होना आम बात हो गई है. इस तरह के सिरदर्द को Muscle Tension Headache कहा जाता है.

इसमें स्नायुओं में तनाव आ जाता है जो सिरदर्द का कारण बनता है. मेडीटेशन, प्राणायाम, ब्रीदिंग एक्सरसाइज और सैर करें. डाक्टर इस तरह के सिरदर्द को दूर करने के लिए एन्जियोलिटिक मेडीसिन देते हैं. ये गोलियां तनाव कम करती हैं.

3-माइग्रेन

सिर के एक हिस्से में  दर्द हो रहा हो, आंखों के सामने आड़ी-तिरछी धारियां बन रही हों, उलटी आ रही हो और लगे कि जैसे सिर पर कोई हथौड़े मार रहा है, तो समझ लें आप माइग्रेन से ग्रस्त हैं. यह दर्द अचानक ही होने लगता है और एकदम से बढ़ जाता है.

MUST READ: दिन भर ENERGY चाहिए तो बिना थकान ऐसे करें काम

इसमें रोशनी अच्छी नहीं लगती. यह दर्द ब्रेन को खून पहुंचाने वाली नसों से तनाव आने के कारण होता है. महिलाएं माइग्रेन से सबसे ज्यादा पीडि़त रहती हैं. बच्चों में भी यह होता है. जब माइग्रेन का दर्द चरम पर पहुंचता है तो कई मामलों में व्यक्ति में आत्महत्या की प्रवृत्ति भी हो जाती है.

माइग्रेन में तेज सिरदर्द के कार ब्रेन हैमरेज अथवा पैरालिसिस होने का खतरा भी हो सकता है. इसमें ब्रेन की नसों के तनाव को दूर करने के लिए विशेष दवाइयां दी जाती हैं. और समय-समय पर इनमें बदलाव किया जाता है.

खुद भी ध्यान रखें कि किस वजह से आपका माइग्रेन का दर्द महसूस होता है. टिन फूड, जंक फूड, रेड वाइन, और सिगरेट पीने से बचें. पनीर में टाइरामिन और नूडल्स में मोनोसोडियम ग्लूटामेट पाया जाता है जो माइग्रेन को बढ़ सकता है.

4-पोस्चर सही न होने पर

शरीर को सही पोस्चर में न रखने से मांसपेशियों में तनाव आ जाता है और तनाव की वजह से सिरदर्द हो जाता है. गलत ढंग से बैठकर कंप्यूटर पर लगातार काम करने, गर्दन को एक ही दिशा में काफी समय तक रखकर फोन पर लंबी बात करने, लगातार कार ड्राइव करने और गलत ढंग से सोने से भी दर्द होने लगता है.

READ MORE: ‘EXERCISE’ करें दोस्तों के साथ तो उसका फायदा ज्यादा कैसे?

अपने खड़े, बैठने, लेटने आदि के पोस्चर पर ध्यान दें. कंप्यूटर स्क्रीन का एंगल ठीक रखें ताकि आप सीधे देख सकेें. कंधों को आराम दोने के लिए हैंडिल वाली कुर्सी का प्रयोग करें.

5-हाइपरटेंशन

हाई ब्लड प्रैशर से सिरदर्द हो सकता है. डाक्टर इसे एमरजेंसी हाइपरटेंसिव नाम देते हैं. अगर ब्लड प्रैसर रीडिंग 240-130 से ज्यादा होती है तो सिरदर्द होगा ही. एकदम लो ब्लड प्रैशर से हाई होने पर भी सिरदर्द होने लगता है.

ध्यान रखें यदि आपको जल्दी-जल्दी सिरदर्द महसूस हो रहा हो तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें