चेक कीजिए INTERNET पर बच्चे सुरक्षित हैं या नहीं?

2187
Internet
Courtesy: thephysiocompany.com

संयोगिता कंठ:

आज के आधुनिक और सूचनाओं के दौर में Internet से भला बच्चों को कैसे दूर रखा जा सकता है? इंटरनेट यानी सूचना और ज्ञान का भंडार जिससे बच्चों को दूर रखने का मतलब है उनकी प्रगति में बाधक बनना.




पढ़ाई-लिखाई से लेकर प्रोजेक्ट तैयार करने, रिसर्च करने में Internet के सहायता की जरुरत पड़ती है लेकिन यहां यह जानना जरुरी है कि इंटरनेट पर हमारे बच्चे कितने सुरक्षित है?

MUST READ: आजादी और बंदिशों के बीच कैसे SAFE रखें टीएनएज बच्चों को

लेकिन यह जानने से पहले आपको अपने बच्चों के साथ फ्रेंडली होना जरुरी है. वरना उन्हें लगेगा कि आप उनकी जासूसी कर रही हैं और बात-बात पर उन्हें टोक रही हैं. इससे बच्चों में गुस्सा और तनाव हो सकता है.




इसलिए धैर्य पूर्वक काम लें और अपने बच्चों को विश्वास में लेकर इंटरनेट पर उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाएं…

1- हमसे कुछ मत छिपाओ

Internet
Do not hide anything

बच्चों से कहें कि वे आप से कुछ न छिपाएं. वे जिस वेबसाइट्स पर अक्सर जाते हैं उनसे कहें कि उस बारे में बताएं जिससे आपको भी पता चल सकें कि वे इंटरनेट पर किस तरह का कंटेट देख रहे हैं या सर्च कर रहे हैं. आप भी उस साइट पर जाएं और सुरक्षा संबंधी फीचर्स को ऑन कर दें.  बच्चे जिस साइट्स पर अक्सर जाते हैं यदि आप भी उसे देखती रहें तो आपको आसानी से पता चल सकेगा कि कहीं वे एडल्ट कंटेट को तो नहीं देख रहे?




MUST WATCH: अपने TEENAGE बच्चों के साथ हेल्दी RELATIONSHIP कैसे बनाएं?

2-उसी से करो दोस्ती जिसे जानते हो

Internet
PIC Courtesy : Affinity Magazine

बच्चों को ऑनलाइन फ्रॉड और साइबर क्राइम के बारे में समझाते हुए यह बताएं कि उन्हें ऑनलाइन केवल उन्हीं लोगों से दोस्ती करनी चाहिए जिन्हें वे जानते हों. कई बार कुछ लोग बच्चों को यौन शोषण या यौन हिंसा का शिकार बनाने वाले फर्जी एकाउंट बनाकर उनसे दोस्ती करते हैं और फिर उन्हें अपने जाल में फंसाते हैं.

3-फोटो शेयर करने से पहले सोचो

Internetबच्चों को समझाएं कि वे ऑनलाइन कोई भी फोटो शेयर करने से पहले आपको जरुर बताएं. उन्हें यह भी बता सकते हैं कि इन फोटो का लोग ग़लत इस्तेमाल किस तरह कर सकते हैं. इसलिए जितना हो फोटो शेयर करने से पहले सतर्कता बरतें. बच्चों को समझाएं कि कोई आपत्तिजनक कंटेट या वीडियो को शेयर या लाइक न करें. किसी की गरिमा या भावना को ठेस पहुंचाने वाले कंटेट या वीडियो पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से बचें.

MUST READ: 2018- BOARD EXAMS- चेक कीजिए बच्चों पर तो नहीं है RESULT का हौआ?

4-सेटिंग्स को पब्लिक करने के बजाए निजी रखें

बच्चों को यह समझाएं कि उनके सोशल अकाउंट्स पर कुछ ग़लत प्रवृति के लोग नज़र रख सकते हैं और बाद में इसका कोई ग़लत फायदा उठा सकते हैं. इसलिए उन्हें अपना अकाउंट को पब्लिक नहीं करें.

5-बेहिचक बताओ

बच्चों को यह पूरा विश्वास दिलाएं कि वे हर बात आपसे शेयर कर सकते हैं. इसलिए यदि उन्हें इंटरनेट पर किसी तरह से कोई डरा-धमका रहा हो, या किसी तरह की ब्लैकमेलिंग की कोशिश कर रहा हो तो बिना देर किए वह आपको बताए. आमतौर पर लड़कियों को उनके फोटो के जरिए ब्लैकमेलिंग का शिकार बनाया जा सकता है.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें