KATHUA RAPE CASE-दीपिका सिंह रजावत को क्यों लगता है कि उनका भी रेप हो सकता है

1255
kathua Rape Case

Kathua Rape Case में पीड़ित परिवार की वकील दीपिका सिंह रजावत को लगता है कि उनका भी रेप हो सकता है. उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि कल मैं जीवित रहूंगी भी या नहीं? मेरे साथ भी रेप हो सकता है, मेरे सम्मान को भी तार-तार किया जा सकता है. इस मामले में 8 आरोपियों के खिलाफ ट्रायल आज से शुरु हो रहा है.




जम्मू-कश्मीर के Kathua में एक 8 साल की बच्ची के साथ हुए रेप और मर्डर और उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक युवती के साथ हुए रेप की घटना को लेकर देश भर में आक्रोश देखने को मिल रहा है. पिछले तीन-चार दिनों से देश के अलग-अलग शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

इसी सिलसिले में रविवार को भी देश भर में विरोध-प्रदर्शन हुए और लोगों ने सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक अपने गुस्से का इजहार किया. मुंबई में हुए विरोध प्रदर्शन में बॉलीवुड से जुड़ी कई हस्तियां भी शामिल हुई हैं और कई सेलीब्रटीज ने सोशल मीडिया के जरिए भी अपना गुस्सा निकाला.




 दिल्ली के संसद मार्ग पर ‘नॉट इन माई नेम’ मार्च निकाला गया. प्रदर्शन में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए. दिल्ली में हुए विरोध प्रदर्शन में दीपिका सिंह रजावत भी शामिल हुई. उन्होंने इस मामलें में सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान लेने पर संतोष जताया, लेकिन दीपिका ने यह कहा कि यह केस अपने हाथ में लेने के कारण उनकी जान को खतरा है.

MUST READ: कौन है DEEPIKA SINGH RAJAWAT, किस बात के लिए मिली उन्हें धमकियां?

उन्होंने मीडिया को बताया कि मेरी जान को खतरा है यह बात मैं सुप्रीम कोर्ट को बताऊंगी. मुझे शनिवार को धमकी दी गई है कि मुझे छोड़ा नहीं जाएगा. मुझे आशंका है कि मेरा भी रेप हो सकता है या मेरी हत्या हो सकती है. मुझे नफरत की नजर से देखा जाता है, मुझे अलग-थलग कर दिया गया है लेकिन मैं पीडि़त को न्याय दिला कर रहूंगी.




उन्होंने कहा कि कठुआ में एक ऐसी लड़की के साथ विभत्सता हुई जिसे अपने शरीर के बारे में कुछ भी मालूम नहीं था. उस मासूम बच्ची के साथ निर्ममता से बर्बरता की गई. अब मुझे अपनी बच्ची के लिए भी डर लगने लगा है. वो जब भी बाहर जाती है तो मुझे डर लगता है.

READ THIS: #JusticeforKathuaGirl-देश की दूसरी निर्भया के लिए इंसाफ की मांग लेकर खड़ा हुआ पूरा देश

दीपिका ने कहा कि मेरा जिंदा रहना जरुरी है.पीड़ित परिवार के पास केस लड़ने के लिए पैसे नहीं थे लेकिन वे परिवार वालों के पास पहुंची और यह केस लड़ने की इच्छा जताई. उनका कहना है कि मेरा जिंदा रहना बहुत जरुरी है क्योंकि यदि कल हमारी किसी बच्ची के साथ ऐसा हुआ तो इन दरिंदों के साथ फिर से मुकाबला कर सकें.

कठुआ रेप मामले में पीड़िता का केस लड़ रही वकील दीपिका ने जब से यह केस  अपने हाथ में लिया है उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं और यह केस छोड़ने का दबाव डाला जा रहा है. उन्हें पहले भी कई बार जान से मारने की धमकियां मिल चुकी है. एक वकील के खिलाफ केस लड़ने के कारण जम्मू-बार एसोसिएशन ने उनकी सदस्यता रद्द कर दी.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें