JNU छात्र संघ चुनाव में फौजी की बेटी GEETA KUMARI बनीं प्रेसिडेंट

19790
Geeta Kumari
Geeta Kumari

एक बार फिर JNU छात्र संघ के चुनाव में लेफ्ट ने बाजी मार ली है. आइसा की Geeta Kumari अध्यक्ष चुनी गई हैं. Geeta Kumari  के साथ जीतने वाले तीन अन्य उम्मीदवार भी लेफ्ट से हैं. सिमोन जोया खाना उपाध्यक्ष बनी हैं.

दुग्गिराला श्रीकृष्ण महासचिव तो शुभांशु सिंह ने संयुक्त सचिव पद पर जीत हासिल की है. यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट यूनियन के चुनाव के नतीजे शनिवार देर रात जारी कर दिए गए.

चारों सीटों पर यूनाइटेड लेफ्ट पैनल (आईसा, एसएफआई और डीएसएफ) ने बाजी मारी है. एबीवीपी के उम्मीदवार सभी चार सीटों पर दूसरे नंबर पर रहे. पिछले चुनाव में भी अध्यक्ष सीट पर आइसा का कब्जा था.




छात्रसंघ का चुनाव 8 सिंतबर को हुआ. इस बार सभी छात्र संगठनों ने अध्यक्ष पद के लिए महिला उम्मीदवार खड़े किए थे. इससे यह साफ हो गया था कोई भी संगठन जीते, जेएनयू छात्रसंघ की बागडोर किसी महिला के हाथों में ही होगी.

छात्र संघ के अध्यक्ष पद के लिए सात उम्मीदवार चुनावी मैदान थे. चुनाव में 58.69 फीसदी वोटिंग हुई थी. शनिवार रात साढ़े नौ बजे शुरू हुई मतगणना के बाद देर रात आए चुनाव परिणाम आते ही पूरा जेएनयू कैंपस नारों से गूंज उठा.




MUST READ: निर्मला सीतारमण के DEFENCE MINISTER बनने पर उल्लास क्यों?

छात्रसंघ की नई अध्यक्ष Geeta Kumari आइसा की छात्र नेता हैं और इतिहास से एमफिल कर रही हैं. वे हरियाणा से हैं और एक फौजी की बेटी है. गीता ने एबीवीपी की निधि त्रिपाठी को 464 वोटों से हरा दिया. उनकी जीत पर उनके परिवार के लोग काफी खुश हैं. वे शुरु से पढ़ने में मेधावी रही हैं.

जीत के बाद Geeta Kumari ने कहा, ‘मैं इस जीत का श्रेय जेएनयू के उन छात्रों को देती हूं जो मानते हैं कि यह यूनिवर्सिटी जिस तरह की लोकतांत्रिक जगह है उसे बचाए रखने की जरूरत है. गीता ने प्रचार में जेएनयू की सीटों में कटौती, नजीब की गुमशुदगी और नए हॉस्टल और प्रवेश प्रक्रिया से जुड़े मुद्दों को उठाया था.