MASABA ने पटाखों की पाबंदी का समर्थन किया तो उसका CHARACTER क्यों नापने लगे?

189

विचित्रमणि राठौड़:

वरिष्ठ टीवी पत्रकार:

क्या सोशल मीडिया अनसोशल हो गया है? ये सवाल Masaba Gupta की पीड़ा से उपजा है, जिसकी एक तार्किक बात कुछ लोगों को ऐसी चुभी कि वो किसी महिला की न्यूनतम मर्यादा भी भूल गए. मशाबा गुप्ता ने Tweet करके दिल्ली में पटाखों पर पाबंदी का समर्थन किया तो इसे दिवाली में खलल मानने वालों ने मशाबा को नाजायज औलाद और ना जाने क्या क्या कहना शुरु किया. ट्रोलर्स ने सोशल मीडिया पर Masaba का Character इस बात से नापना शुरु किया कि उसके माता पिता कौन हैं और कैसी परिस्थिति में उसका जन्म हुआ?

मशाबा वेस्ट इंडीज के दिग्गज क्रिकेटर रिचर्ड विवियन और बॉलीवुड अभिनेत्री नीना गुप्ता की बेटी हैं. विवियन और नीना ने शादी नहीं की थी लेकिन 1989 में बेटी हुई. दोनों ने कभी इसे नकारा नहीं कि ये उनकी बेटी नहीं है और ना ही उसकी पहचान को अपनी पहचान से अलग रखा और इसीलिए उस बच्ची का नाम मशाबा गुप्ता रखा.




पिता का अंश भी, मां का वंश भी. लेकिन जिनको रक्त शुद्धता और अपने कर्मकांडों की पवित्रता का बड़ा अभिमान है, जिनको लगता है कि पटाखों में ही किसी पर्व का सारा उल्लास और जोश है, जिनके लिए दिवाली रोशनी से ज्यादा तड़क-भड़क और असभ्य प्रदर्शन का त्यौहार है, उन्होंने सोशल मीडिया पर मशाबा को गाली देना शुरु कर दिया, लेकिन मशाबा इससे विचलित नहीं हुई.

उन्होंने जवाब में लिखा कि उन्हें इस तरह के शब्दों से कोई फर्क नहीं पड़ता बल्कि खुशी होती है कि वो दो बेहतरीन शख्सियतों की संतान हैं और उन्हें अपने माता-पिता पर गर्व है. मशाबा आज 28 साल की हैं लेकिन उनका कहना है कि जब वो दस साल की थीं, तभी से नाजायज संतान जैसे शब्द सुन रही हैं.

ये पीड़ा सिर्फ मशाबा की नहीं है बल्कि जो भी सभ्य समाज का हामी होगा, उसको गाली सुनने और उससे बढ़कर गोली खाने तक को तैयार रहना होगा. पटाखों पर पाबंदी क्यों नहीं होनी चाहिए? दिवाली भारत के गरिमापूर्ण उल्लास और उजियाले का त्योहार हैं. कहते हैं कि भगवान राम जब लंका विजय के बाद अयोध्या लौटे थे तो उनके स्वागत में अयोध्यावासियों ने दीये जलाए थे और तभी से दिवाली की परंपरा शुरु हई.




वो खेतिहर समाज की दिवाली थी जिसमें मिट्टी का दीया समाज की खुश-शांति-प्रगति का प्रतीक था. आज दौलत की कब्र पर इठलाती विलासिता का दौर है, जिसमें कानफाड़ू पटाखों के बगैर दिवाली बेरौनक लगती है. 

गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की एक कविता है- सूरज डूबने जा रहा था. उसने पूछा कि मेरे बाद इस दुनिया को रोशनी कौन देगा? चांद थे, सितारे थे, सभी चुप रहे. मिट्टी का एक छोटा सा दीया बढ़कर आगे आया और कहा- प्रभु, ये वृहत्तर बोझ मेरे कंधे पर. जब अमावस की काली अंधेरी रात होगी, तब दुनिया को रोशनी मैं दिखाऊंगा.

वो दीया एक प्रतीक है कि आम आदमी अपने आत्म बल से कैसे समाज का मानस बदल सकता है. लेकिन जिस तरह आम आदमी की आवाज थोड़े से लोगों के उन्मादी शोर में दब रही है या दबायी जा रही है, उसी तरह से दिवाली का दीया आज पटाखों के शोर में बुझता जा रहा है.

हमें ये भी खयाल नहीं रहता कि जिन पटाखों को फोड़कर हम अपनी खुशियों का इजहार करते हैं, उन पटाखों के मसाले तैयार करने के लिए ना जाने कितने लाचार-असहाय बच्चों का बचपन पीसा जाता है.




Masaba
विचित्रमणि राठौड़ , वरिष्ठ टीवी पत्रकार

बचपन में अपने गांव में दिवाली मनाते वक्त हम तो ये जानते भी नहीं थे कि दिवाली के लिए पटाखों की भी जरूरत होती है. बस दीये के उजाले में अगले एक साल भविष्य के उजाले का इंतजार और उम्मीद रहती है. उसकी अगली सुबह फटे-पुराने सूप बजाकर ये मुनादी फिरायी जाती थी कि इस्सर पइठं दरिद्दर निकलं (यानी ईश्वर आएं, समृद्धि लाएं और दरिद्रता खत्म हो) लेकिन दरिद्रता आज तक नहीं मिटी.

आज भी गांव उसी गरीबी, भुखमरी, बेबस जिंदगी और बुनियादी सुविधाओं से वंचित होकर हर दिवाली पर ये उम्मीद पाले बैठा रहता है कि इस बार दरिद्रता खत्म होगी. ऐसे क्षण में बचपन में ही पढ़ी गोपाल दास नीरज की एक कविता याद आती है-
बहुत बार आई गई यह दिवाली
मगर तम जहां था, वही पर पड़ा है
बहुत बार लौ जल-बुझी पर अभी तक
कफन रात का हर चमन पर पड़ा है,
न फिर सूर्य रूठे, न फिर स्वप्न टूटे
उषा को जगाओ, निशा को सुलाओ!
दिये से मिटेगा न मन का अंधेरा
धरा को उठाओ, गगन को झुकाओ!
ना जाने इंतजार की ये घड़ियां कब खत्म होंगी!

(साभार-फेसबुक वॉल)

 

 महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें