इन दिनों क्यों सुर्खियों में है ICICI BANK की सीईओ CHANDA KOCHHAR

867
Chanda Kochhar ,Chief Executive Officer of ICICI Bank

ICICI बैंक की सीईओ Chanda Kochar इन दिनों मीडिया की सुर्खियों में है. वजह पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के बाद अब निजी क्षेत्र के इस बड़े बैंक की सीईओ पर वीडियोकॉन के मालिक वेणुगोपाल धूत के जरिए अपने पति, भाभी और ससुर को लाभ पहुंचाने का आरोप लगा है.




मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक चंदा कोचर पर यह आरोप लगा है कि उन्होंने वेणुगोपाल धूत के जरिए अपने पति दीपक कोचर समेत परिवार के कई सदस्यों को लाभ पहुंचाया है.  हालांकि बैंक बोर्ड ने इन आरोपों को ग़लत बताते हुए चंदा कोचर को क्लीनचिट दी है.

बैंक के चेयरमैन एम के शर्मा ने कहा है कि चंदा कोचर पर लगे आरोप बेबुनियाद हैं. मुंबई में गुरुवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में शर्मा ने कहा है कि बैंक के किसी भी कर्मी को इसके किसी क्रेडिट को प्रभावित करने की क्षमता नहीं है.




READ THIS: ICICI Bank की चंदा कोचर रोज कितना कमाती हैं?

उन्होंने कहा कि कोचर वीडियोकॉन को कर्ज देने वाली कमेटी की अध्यक्षता नहीं की थी. उस समय बैंक की क्रेडिट कमिटी में शामिल थीं, जब वीडियोकॉन ग्रुप को 2012 में 3,250 करोड़ रुपये के कर्ज की मंजूरी दी गई थी.

मीडिया रिपोर्टस में कहा जा रहा है कि केंद्रीय एजेंसियां धूत और दीपक कोचर के व्यवसायिक संबंधों की जांच कर रही है. इन रिपोर्टस के मुताबिक वीडियोकॉन ग्रूप के प्रमुख वेणुगोपाल धूत ने दिसंबर 2008 में दीपक कोचर, दीपक के पिता और चंदा कोचर की भाभी के साथ मिलकर नू पॉवर प्रा.लि. नाम की कंपनी बनाई.

जिसमें धूत अपने परिवार के सदस्यों के साथ इस कंपनी में 50 फीसदी शेयर के मालिक थे. वहीं 50 फीसदी शेयर दीपक कोचर, उनके पिता और चंदा कोचर की भाभी के पास थे. जनवरी 2009 में धूत ने कंपनी के डाइरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया और अपने शेयर दीपक कोचर को बेच दिए.




SEE THIS: जानिए भारत की उन 5 महिलाओं को जिन्हें FORBES LIST में किया गया शामिल

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, धूत ने अपनी एक कंपनी सुप्रीम एनर्जी से नूपावर को 64 करोड़ रुपए का लोन दिया. बाद में धूत ने सुप्रीम एनर्जी का मालिकाना हक सिर्फ 9 लाख रुपए में एक ट्रस्ट ‘पिनेकल एनर्जी ट्रस्ट’ को दे दिया. ‘पिनेकल एनर्जी ट्रस्ट’ के चेयरमैन दीपक कोचर ही थे. बाद में बैंक ने वीडियोकॉन को लोन दिया.

इसलिए सवाल उठ रहे हैं कि इस पूरे मामले में चंदा कोचर ने अपनी हैसियर का फायदा उठाया. जिसमें हितों के टकराव की बात नजर आ रही है. चंदा कोचर पर लगे इन आरोपों की वजह से पिछले 10 दिनों में बैंक के शेयरों में 6फीसदी की गिरावट आई है.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें