कहीं आप ‘SELFIE ADDICT’ तो नहीं?

2 views
selfie
selfie

कविता सिंह:

Smartphone इस्तेमाल करने वाले लोगों में ऐसा शायद ही कोई व्यक्ति होगा जिसने Selfie का नाम न सुना होगा. आज क्या बच्चे, क्या बूढ़े, क्या लड़कियां, क्या नौजवान..सबपर बस सेल्फी लेने की धुन सवार है. खाते-पीते हुए, सोते हुए, दोस्तों के साथ तफरीह हो या कोई बड़ा या छोटा मौका.. हर कोई बस सेल्फी लेने में ही लगा रहता है. सेल्फी के चलन को Social Media ने और हवा दी. Facebook, Instragram पर सेल्फीज की बाढ़ सी आ गई. लोग सेल्फी लेने के लिए बेचैन होने लगे हैं. धीरे-धीरे लोगों पर सेल्फी लेने का सनक सवार होने लगा है. वे हर छोटी-बड़ी बात पर यहां तक की किसी ख़तरे को भांप कर भी सेल्फी लेने से बाज नहीं आ रहे यानी सेल्फी एडिक्ट होते जा रहे हैं.




क्या है Selfie और क्या ये Addiction?

सेल्फी यानी सेल्फ और खुद से लिया हुआ. अपने हाथों से अपनी Photo click करना सेल्फी बन गया. यह शब्द 2012-2013 के दौरान चलन में आया. टाइम मैगज़ीन ने 2012 में टॉप 10 वर्ड्स में इस शब्द को शामिल किया. वहीं, 2013 में ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी ने इसे वर्ड ऑफ़ द इयर घोषित किया. बस तभी से देश हो या विदेश हर कोई सेल्फी को लेकर दीवाना हो गया. लेकिन यह दीवानगी अब इतनी बढ़ चुकी है कि बीमारी का रूप ले चुकी है. 




मुंबई की Clinical Psychologist प्रतिष्ठा त्रिवेदी कहती हैं सेल्फी एक सेल्फ ऑब्सेशन(obsession) या एडिक्शन है. हम खुद को लेकर इतने मंत्रमुग्ध हो चुके हैं कि खुद को Validate कराए बिना चैन नहीं मिलता. हम चाहते हैं लोग ज्यादा से ज्यादा हमारे बारे में देखे-जानें इसलिए सेल्फी के माध्यम से हम सोशल मीडिया पर अपने आपको दिखाने की कोशिश करते हैं.

वे कहती हैं कि सेल्फी का ऑब्सेशन इतना बढ़ चुका है कि अगर सोशल मीडिया पर किसी ने हमारी सेल्फी को लाइक नहीं किया तो हम परेशान होने लगते हैं, यहीं से कुछ Disorder  जन्म लेते हैं

1-जैसे कॉन्फिडेंस लूज होना,

2- हीनभावनाएं बढ़ना जैसे- मैं सुंदर नहीं हूं,

3-अपने अंदर कमी ढूढना जैसे- लोग फोटो नहीं नहीं देख रहे मतलब मेरे अंदर कोई कमी है जिसकी वजह से मुझे नोटिस नहीं किया जा रहा आदि.

Pratishtha Trivedi कहती हैं कि ऐसी स्थिति में हमारा मन कहीं नहीं लगता और यही बात खतरनाक साबित हो सकती है.

कईयों के लिए Dangerous साबित हुई सेल्फी: 

जब से सेल्फी ट्रेंड में आई कुछ ऐसे मामले भी सामने आए जिनमें इसे लेते वक्त खतरनाक हादसे हुए. हमारे देश में आप आए दिन ऐसी घटनाओं के बारे में सुनते रहते हैं कि छात्र नदी किनारे या समुद्र में सेल्फी लेते डूब गए. इस तरह की कई घटनाएं होती है. कई ऐसी घटनाएं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बनी.




MUST READ: क्या आपके फोन में हैं ये APPS

Romania की अन्ना उर्सु अपनी सेल्फी सोशल साइट्स पर खूब शेयर करती थी. इसके लिए वह खतरनाक से खतरनाक जगहों पर भी चली जाती. इसी तरह की सेल्फी लेने के चक्कर में एक दिन वह ऊंची छत पर चढ़ गई. इस दौरान वह ऐसी जगह सेल्फी लेने की कोशिश करने लगी, जहां से हाई वोल्टेज करंट वाला तार गुजरता था. अन्ना ने जैसे सेल्फी के लिए मोबाइल आगे बढ़ाया, उसका दूसरा हाथ तार से चिपक गया. इस घटना ने उसकी जान ले ली.

-अमेरिकी प्रांत ऊटा के मोर्गन काउंटी की रहने वाली 26 साल की कोलेट मोरेनो बैचलर पार्टी में जा रही थी. इस दौरान उसने चलती कार में अपनी सेल्फी लेनी चाही. इस दौरान कार चला रही फ्रेंड का ध्यान भी उन पर चला गया, जिसकी वजह से आगे से आ रही गाड़ी से उसकी कार का एक्सीडेंट हो गया. कोलेटो की इस हादसे में मौत हो गई.

-सेल्फी के चक्कर में Russia की जेनिया इग्नाटेया की मौत भी हो चुकी है. 17 साल की जेनिया अपने दोस्त को इम्प्रेस करने के लिए सेल्फी लेने के लिए 28 फीट ऊंचे रेलवे ब्रिज के केबल पर चढ़ गई. जेनिया ने अपनी सेल्फी तो ले ली, लेकिन वहां से उतरने के चक्कर में बैलेंस बिगड़ गया और वह नीचे गिर गई, जिससे उसकी मौत हो गई.

Market ने भी खूब भुनाई सेल्फी

लोगों में सेल्फी क्रेज को देखते हुए मार्केट और कंपनियों ने भी इसे खूब भुनाया है. मार्केट में सेल्फी स्पेशल फोन आने लगे जिनका कैमरा बेहतरीन सेल्फी क्लिक करता है. Oppo  मोबाइल कंपनी ने  Selfie Expert  F1s लॉन्च किया जिसमें सेल्फी और ग्रुप सेल्फी के लिए अलग फीचर्स हैं. ऐसा ही कई अलग कंपनियों ने भी किया और ये स्मार्टफोन हाथों हाथ बिके. Slfie Stick के अलावा Selfie Spoon और Selfie Shoe  का चलन भी बढ़ने लग है. यानी जैसे भी हो एक सेल्फी तो बनिए चाहिए.

 

Facebook Comments