पंजाबी कुड़ी हरमनप्रीत ने WOMEN’S WORLD  CUP में कैसे छुड़ाए ऑस्ट्रेलिया के छक्के?

90
Harmanpreet Kaur
Harmanpreet Kaur

ICC Women’s Cricket World Cup 2017 के सेमीफ़ाइनल में धमाकेदार बल्लेबाज़ी की बदौलत भारतीय खिलाड़ी हरमनप्रीत कौर सोशल मीडिया के Top Trends में छा गई. उनके प्रशंसकों की तादाद उसके रन बनाने की रफ्तार की  तरह तेज़ी से बढ़ने लगी है.

गुरूवार को ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ खेलते हुए हरमनप्रीत कौर ने ज़बरदस्त शतक लगाया और इस शतक की मदद से भारत ने आस्ट्रेलिया को सेमी फाइनल में हरा दिया और अब फाइनल मुकाबला इंग्लैंड से होगा. भारत ने आस्ट्रेलिया के सामने जीत के लिए 282 रनों का लक्ष्य रखा.




हरमनप्रीत कौर ने 12 चौके और दो छक्के की मदद से 90 गेंदों में शतक लगाया. हरमनप्रीत  भारतीय पारी की हीरो साबित हुईं. उन्होंने महज़ 115 गेंदों पर नाबाद 171 रन बनाए. अपनी इस पारी में उन्होंने 20 चौके और 7 छक्के लगाए. यह कौर का यह तीसरा एक दिवसीय शतक है. इसके साथ ही यह महिला एकदिवसीय क्रिकेट का पांचवा सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर भी है.

हरमनप्रीत कौर टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग को अपना आदर्श मानती हैं.शतक बनाने के बाद तो हरमनप्रीत कौर ने ऐसा खेल खेला कि अगले 71 रन केवल 25 गेंदों पर बना डाले. इस दौरान उन्होंने 5 छक्के और 8 चौके और लगाए.

उनकी शानदार पारी के बाद ट्विटर पर वीरेंद्र सहवाग ने लिखा, “हरमनप्रीत कौर की ताउम्र याद रखे जाने वाली पारी. कितनी सफाई से वो शॉट लगाती हैं. उन्हें देखना अद्भुत है. उन्होंने अकेले ही भारतीय पारी में 60 फीसद रन जोड़े. उन्होंने फैन बना लिया है. बाकी दारोमदार अब गेंदबाज़ों पर है.”




वहीं हरमनप्रीत कौर की उपलब्धियों पर उन्हें बधाई देते हुए पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि हरमनप्रीत जब छोटी बच्ची थीं तब भी उसके दिमाग में जरा सी भी शंका नहीं थी कि वह एक दिन क्रिकेट के मैदान पर भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी.

पंजाब के मोगा में 8 मार्च 1989 को जन्मीं हरमनप्रीत कौर क्रिकेट के अलावा फिल्मों, गाने और कार चलाने की शौकीन हैं. हरमनप्रीत कौर ने अपना पहला वनडे 2009 में खेला था. 2013 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ वर्ल्ड कप मैच में शतक लगाकर उन्होंने महिला क्रिकेट में अपनी शानदार इमेज बना ली.दाएं हाथ की 28 वर्षीय बल्लेबाज हरमनप्रीत कौर लीक से हटकर चलने के लिए जानी जाती हैं.

साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के ही ख़िलाफ़ भारत ने टी20 क्रिकेट में सबसे बड़ी जीत दर्ज की थी. हरमनप्रीत ने इस मैच में अहम भूमिका निभाते हुए 31 गेंदों पर 46 रन बनाए थे.इससे पहले 2013 में हरमनप्रीत कौर भारतीय टीम की कप्तानी रह चुकी हैं . उस वक्त बांग्लादेश के ख़िलाफ़ मिताली राज को आराम दिया गया था.फिर  2016 में हरमनप्रीत कौर को मिताली राज की जगह भारतीय टी20 टीम की सौंप दी गई.




इंग्लैंड के डर्बी के काउंटी ग्राउंड में खेले इस मुक़ाबले को जीत कर  इंडिया अब फ़ाइनल में इंग्लैंड से ख़िताब के लिए भिड़ेगी. ग्रुप दौर में भारत ने अपने पहले चार मैचों में ज़ीत दर्ज  की लेकिन बाद में दो लगातार मैच हार गया. इसके बाद अंतिम लीग मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को 186 रन से हराकर सेमीफ़ाइनल में एंट्री की थी.