सैनटरी पैड से जीएसटी हटाने के लिए GWALIOR की GIRLS ने पीएम मोदी को भेजा अनोखा गिफ्ट

146
Gwalior Girls
Gwalior girls send sanitary pad to prime minister

अक्षय कुमार की फिल्म ‘Padman’ अभी बेशक रिलीज नहीं हुई हो लेकिन इस फिल्म ने महिलाओं के हर महीने की जरुरत पर एक बहस जरुर छेड़ दिया है. इसी सिलसिले में Sanitary Pad पर GST लगाने का विरोध करने के लिए Gwalior Girls ने एक नायाब तरीका खोज निकाला है.  Gwalior Girls ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विरोध संदेश वाला 1000 पैड का एक अनोखा गिफ्ट भेजा है.

Gwalior Girls
Gwalior girls send sanitary pad to prime minister




लड़कियों की ओर से प्रधानमंत्री को भेजे गए इस गिफ्ट में कई तरह के संदेश लिखे गए हैं. महिलाओं की बेहतर स्वास्थय के लिए सैनटरी पैड की जरुरत को देखते हुए इसे GST के दायरे में लाने के विरोध में कैंपेन शुरू कर दिया है.




READ THIS: #MyFirstBlood- मेरे कपड़ों पर लगे STAIN पर पहली नज़र लड़कों की पड़ी थी, 13 दिन कमरों में बंद रखा

Gwalior Girls
Gwalior girls send sanitary pad to prime minister

पैड पर संदेश लिखकर पीएम को भेजने वाली प्रियंका विश्वकर्मा ने लिखा है ‘मासिक धर्म रुकने पर ही बच्चा पेट मे बनता है, इसलिए उन 3-5 दिनों में साफ सुथरा पैड हर महिला एवं युवती को मिलना उसका प्राकृतिक अधिकार है. अतः सेनेटरी नैपकिन को GST से मुक्त करो’.




इस कैंपेन से जुड़ी अभिलाषा लाल का कहना है कि यदि सरकार ने लड़िकयों की मांग नहीं मानी तो मैसेज वाले 1000 पैड के बाद इतनी ही संख्या में पोस्टकार्ड मार्च में प्रधानमंत्री को भेजे जाएंगे. यदि सरकार तब भी नहीं मानती है तो इसके दूसरी बार 1 लाख और तीसरी बार 5 लाख सेनेटरी पैड मोदी जी को गिफ्ट के तौर पर भेजा जाएगा.​

MUST READ: ANANDI SANITARY NAPKIN-जिसने दिया है झूंझनू की महिलाओं को स्वस्थ रहने का मंत्र

Gwalior Girls
Gwalior girls send sanitary pad to prime minister

ग्वालियर के युवाओं ने सैनटरी पैड को जीएसटी के दायरे से बाहर रखने के लिए सोशल मीडिया पर एक कैंपेन शुरु किया और देखते ही देखते लड़कियाें ने  प्रधानमंत्री को को 1000 सेनेटरी पैड पर मैसेज लिख कर भेज दिया है. अब देश भर से इसी तरह पैड पर मैसेज लिखकर भिजवाए जा रहे हैं.

 

MUST READ: #MyFirstBlood – कोई बताता ही नहीं था कि इसमें हमें HYGIENE का ख्याल कैसे रखना है?

लड़कियों ने ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं की समस्या को उठाते हुए कहा है कि जीएसटी लगने के कारण सैनटरी पैड महंगा मिलता है और जो महिलाएं दिन के कुछ रुपए कमाती हैं वे कैसे इसका खर्च वहन कर सकती हैं. पैड नहीं मिलने से वे दूसरे उपाय करती हैं जिसकी वजह से वे संक्रमण का शिकार हो जाती है.

READ THIS: नहीं मानी सरकार, SANITARY NAPKIN नहीं हुआ TAX FREE

लड़कियों ने सवाल उठाया है कि महिलाओं के बेहतर स्वास्थय के लिए सैनटरी पैड उनकी जरुरत है लेकिन इसे लग्जरी कैसे मान लिया गया है? लग्जरी आइटम मानने के कारण ही इस पर जीएसटी लगाया जाता है. पैड पर 12 फीसदी जीएसटी लगाया जाता है.

 

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें