10 YEARS की बच्ची को क्यों बनना पड़ा मां?

880
chandigarh 10 yr girl

10 Years की मासूम बच्ची ने आज चंडीगढ़ के जी.एम.सी.एच.-32 में गुरुवार सुबह करीब 10.30 बजे एक बच्ची को जन्म दिया. डॉक्टरों के मुताबिक सवेरे 9 बजे मासूम बच्ची का सिजेरियन किया गया. बच्ची की डिलीवरी के लिए पहले से ही जी.एम.सी.एच.-32 और पी.जी.आई. के डॉक्टरों ने पूरी तैयारी कर ली थी. पिछले कई दिनों से मासूम अस्पताल में भर्ती थी. जिसे डॉक्टरों की देखरेख में रखा गया था. बताया जा रहा है कि जच्चा और बच्चा दोनों सकुशल है.




RELATED TO THIS: SUPREME COURT ने 10 साल की बच्ची को ABORTION की इजाज़त क्यों नहीं दी ?

यह बच्ची मामा की हवस की शिकार हुई थी. बच्ची अपने पेट में 26 हफ्ते का गर्भ लेकर सबसे बड़ी अदालत में पहुंची थी कि उसे गर्भपात की इजाजत दी जाए क्योंकि डॉक्टरों के मुताबिक उसका शरीर इस बच्चे को जन्म देने के लायक नहीं है और डिलीवरी से पैदा होने वाले बच्चे और मां दोनों की जान को खतरा है . लेकिन Supreme Court ने 10 साल की बच्ची को स्वास्थ्य संबंधी कारणों से Abortion की इजाजत नहीं दी.

प्रधान न्यायाधीश जे.एस. खेहर और न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ की खंडपीठ ने गर्भवती बच्ची  पर मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद  एबार्शन की याचिका खारिज कर दी. चंडीगढ़ के ‘पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च’ (पीजीआईएमईआर) ने अपनी रिपोर्ट न्यायालय को सौंपी. इसके मुताबिक, गर्भपात से गर्भवती बच्ची के जीवन को खतरा हो सकता है.

 




पिता ने गोद देने की प्रक्रिया शुरू करने की अपील की :

नवजात शिशु के जन्म से पहले ही पीड़िता के पिता ने ये फैसला कर लिया था कि बच्चे के जन्म होने के बाद वह उसे अपने पास नहीं रखेंगे. बच्चे को गोद दे देंगे. इसी कारण अब पीड़िता के पिता ने मेडिकल कॉलेज को पत्र लिखकर बच्चे के गोद देने की प्रक्रिया शुरू करने की अपील की है. पत्र में यह भी लिखा है कि वह बच्चे को स्वीकार नहीं करना चाहता है, क्योंकि उसे अपनी बेटी के भविष्य की चिंता है.




महाराष्ट्र के पुणे में भी रेप का शिकार हुई 12वीं कक्षा की एक बच्ची ने एक बेटे को जन्म दे दिया है. उस नवजात को भी पीड़ित के घरवालों ने स्वीकार नहीं किया और  गोद देने के  लिए उसे एक संस्था को सौंप दिया गया है. 

 RELATED TO THIS: 12th CLASS की बच्ची को क्यों देना पड़ा बच्चे को जन्म

 
Facebook Comments