#RAPE ROKO-आंदोलन का हिस्सा बनना है तो इस नंबर पर करें MISSED CALL

946
Rape Roko
Swati Maaliwal launches ‘rape roko’ campaign against sexual violence

दिल्ली में बढ़ रहे रेप की घटनाओं को देखते हुए दिल्ली महिला आयोग ने ‘Rape Roko’ आंदोलन शुरु किया है. यदि आप भी इस आंदोलन का हिस्सा बनना चाहें तो 9313181181 पर Missed Call करकें इसमें शामिल हो सकते हैं.




दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली विश्वविद्यालय से मंगलवार को ‘Rape Roko’ आंदोलन की शुरुआत की. इस आंदोलन की मुख्य मांग छोटे बच्चों से दुष्कर्म करने वालो को 6 माह के भीतर फांसी देने, रेप के दूसरे मामलों में फ़ास्ट ट्रायल करने महिलाओं को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराना है.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की मौजूदगी में दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने बड़ी संख्या में विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन से आर्ट फैकल्टी तक मार्च निकाला.




rape roko
Swati Maaliwal launches ‘rape roko’ campaign

MUST READ: क्यों धार्मिक स्थल भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं, यहां होने वाली छेड़छाड़ के खिलाफ- #MosqueMeToo कैंपेन शुरु

इस आंदोलन को सफल बनाने के लिए एक वेबसाइट www.raperoko.org शुरु किया गया है. साथी ही इससे जनता को सीधे तौर पर जोड़ा जा सके इसके लिए यह नंबर 9313181181 भी उपलब्ध कराया गया है.




आयोग की अध्यक्ष का कहना है कि इस आन्दोलन के वालंटियर्स अब हर घर में, बाजारों में, कॉलेज और स्कूलों में जाकर और लोगों को इस आन्दोलन से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करेंगे. उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 1 लाख पत्र भेजने की कोशिश की जाएगी जिसमें उनसे मांग की जाएगी कि वे महिलाओं और बच्चों के प्रति अपराध रोकने के लिए कड़े कदम उठाएं.

स्वाति मालीवाल दिल्ली में एक आठ महीने की बच्ची के साथ हुए रेप की घटना के बाद सत्याग्रह पर है. उनके सत्याग्रह को 15 दिन बीत गए हैं और वे अपने घर नहीं गई है. उनके सत्याग्रह को सबसे ज्यादा दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रों का ही सहयोग मिल रहा है.

MUST READ: महिलाओं पर होने वाले उत्पीड़न की घटनाओं को रोकने और ‘चेतना’ जगाने कहां उतरेंगी WOMEN POLICE VOLUNTEERS

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष का कहना है कि वे 8 मार्च तक यानी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस तक घर नही जाएंगी. आयोग की तरफ से 8 मार्च को महिलाएं और बच्चे दिल्ली में शांति पूर्वक विरोध प्रदर्शन करेंगे.

स्वाति का मानना है कि उन्हें उम्मीद है कि यह आन्दोलन सरकार को महिलाओं और बच्चियों के प्रति होने वाले यौन हिंसा के विरुद्ध कड़े कदम उठाने को प्रेरित करेगा. उन्होंने सभी धर्म और संप्रदाय के लोगों से इस आंदोलन से जुड़ने की अपील की है जिससे कि इसे देशव्यापी आंदोलन बनाया जा सके.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

Facebook Comments