“ये क्या” एसएचओ के CHAIR पर क्यों बैठ गई राधे मां?

12471
Chair
Radhe maa seating on the SHO's chair in Vivek Vihar

हमेशा विवादों में रहने वाली राधे मां ने एक और विवाद को जन्म दे दिया है. इस बार वजह वह फोटो है जिसकी चपेट में पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार थाने के एसएचओ संजय शर्मा भी आ गए हैं. फोटो में दिख रहा है कि राधे मां एसएचओ की Chair पर बैठी हैं और एसएचओ खुद उनके पास खड़े हैं. मामले को लेकर विवाद पैदा होने पर एसएचओ समेत 6 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है.




क्या है पूरा मामला

1-मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक घटना पिछले महीने के 28 सितंबर के रात एक बजे की है. जिस दिन अष्टमी की पूजा थी. कहा जा रहा है कि राधे मां विवेक विहार में रामलीला देखने आई थीं.




2-विवेक विहार थाने में राधे मां आती है और एसएचओ संजय शर्मा की कुर्सी पर बैठकर जाती हैं. थाना के पुलिस वालों को दर्शन देती है और उनकी खूब खातिरदारी होती है.
 
3-फोटो में साफ दिख रहा है कि ऑफिस  के अंदर एसएचओ राधे मां की कुर्सी के बगल में उनकी चुनरी ओढ़कर हाथ जोड़े खड़े हैं.
 
 4-अन्य पुलिस वाले उनके दर्शन करते नजर आ रहे हैं. कुछ पुलिस वाले भक्त की मुद्रा में नजर आ रहे हैं. थाने के अंदर जुटी भक्तों की भीड़ जुटने लगी और उनके साथ पुलिस वाले भी राधे मां के जयकारे लगाते नजर आए.




 
5-यह घटना तब सामने आई जब राधे मां ने अपने फेसबुक पेज पर यह फोटो पोस्ट किया.  दिल्ली पुलिस ने अब इस मामले की जांच शुरु कर दी है.
 
हमेशा विवादों में घिरीं रहने वाली राधे मां का असली नाम सुखविंदर कौर है. वे हमेशा रंगीन-तड़क-भड़क कपड़ों और मेकअप में नजर आती हैं. उनके खिलाफ कभी अंधविश्वास को बढावा देने तो कभी समाज में अश्लीलता फैलाने के आरोप लगते रहे हैं. उनके खिलाफ कई शिकायतें दर्ज है. उन पर यौन उत्पीड़न और दहेज 2015 में दहेज उत्पीड़न का आरोप लगा था. अभिनेत्री डॉली बिंद्रा ने भी राधे मां के खिलाफ यौन उत्पीडन का आरोप लगाया था. कुछ साल पहले छोटे कपड़ों और अश्लील भाव-भंगिमा की  उनकी कुछ तस्वीरें लोगों के सामने आई तो उस पर भी विवाद हुआ था. कुछ समय पहले संतों के संगठन ने उन्हें फर्जी संत घोषित किया है. 
 

 महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

Facebook Comments