BHU में हिंसा को लेकर अरुणा राय समेत कई कार्यकर्ताओं ने लिखी शीर्ष नेताओं को चिट्ठी

18345
letter
BHU Protest

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में छात्राओं के साथ किए गए कथित दुर्व्यवहार और लाठीचार्ज को लेकर अरुणा राय समेत 40 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं और शिक्षकों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को letter लिखा है. सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इन नेताओं से अपील है कि वे बीएचयू में हो रही हिंसा की ओर ध्यान दें.  




आरोप है कि शनिवार देर रात विश्वविद्यालय के गेट पर पिछले दो दिनों से धरना दे रही छात्राओं को पुलिस ने वहां से ज़बरन खदेड़ दिया, लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए.

अरुणा राय
अरुणा राय

अरुणा राय, हर्ष मंदर समेत 40 सामाजिक कार्यकर्ताओं ने Letter में अपना रोष प्रकट करते हुए लिखा है कि हम निर्मम पुलिस कार्रवाई के खिलाफ एक्शन और इस मामले में न्यायिक जांच की मांग करते हैं. पत्र में कहा गया है कि छात्राओं की जो भी मांग है उस पर भी ध्यान दिया जाए.




 

MUST READ:  BHU में लड़कियों का गुस्सा इस तरह क्यों निकल रहा है?

 

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने लिखा है कि छात्राएं 22 सितंबर से कैंपस में हो रहे सेक्सुअल हैरेसमेंट की घटना के खिलाफ स्ट्राइक पर बैठी थीं लेकिन पुलिस कैंपस में आई लड़कियों को हॉस्टल से निकाला और उन्हें अपमानित किया, इसके लिए हम यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन और निर्मम पुलिसिया कार्रवाई की निंदा करते हैं.  

पत्र में कहा गया है कि कैंपस में जो कुछ भी हुआ वह पूरी तरह यूनिवर्सिटी के वाइस चासंलर की नाकामयाबी है जो छात्राओं को सुरक्षा नहीं दे सके और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन किया गया.  




वाराणसी में 21 सितंबर को एक छात्रा के साथ कथित तौर पर हुई छेड़छाड़ के बाद छात्राओं ने दो दिन तक विश्वविद्यालय के गेट के बाहर धरना प्रदर्शन किया था जिसे शनिवार देर रात प्रशासन ने ज़बरन ख़त्म करा दिया.

इस दौरान यूनिवर्सिटी कैंपस में छात्राओं के बीच भय और तनाव का माहौल देखा गया. छात्राएं अपना सामान समेटे घर वापस जा रही हैं. विश्वविद्यालय को दो अक्टूबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. रिपोर्ट है कि हॉस्टल को रविवार शाम तक खाली करने को कहा गया है.

Facebook Comments