‘कमेंट करते हैं, कंकड़ मारते हैं, फिर भी नजरंदाज करो तो TOUCH करते हैं ‘

817
Touch

शिखाप्रिया:

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की शिकायतों पर समय रहते कार्रवाई नहीं की गई तो हंगामा हो गया. ऐसा ही गुस्सा दिल्ली विश्वविद्यालय के अंबेडकर कॉलेज की छात्राओं में उबाल ले रहा है, जो गोकलपुरी स्थित कॉलज के आसपास छेड़छाड़ की बढ़ती घटनाओं और असुरक्षित माहौल से हताश हैं. स्टूडेंटस की शिकायत है कि कॉलेज के आसपास मनचले जमा रहते हैं, आते-जाते फब्तियां कसते हैं. उनके रास्ते पर बीयर-सिगरेट पीते हैं, कंकड़ मारते हैं, फिर भी नजरंदाज किए जाने पर Touch करने की हिमाकत करते हैं.




MUST READ: COLLEGE जाएं तो SAFETY के लिए जरुर रखें ये 4 चीजें

 

ऐसी हरकतों के चलते स्टूडेंट्स को अक्सर डराने वाले अनुभवों से गुजरना पड़ता है. हताश इसलिए हैं कि इस बारे में छात्राओं ने पुलिस को कई बार शिकायत की, थाने भी गईं. आरोप है कि पुलिस कार्रवाई तो दूर, शिकायत तक रजिस्टर्ड (डीडी एंट्री) नहीं हुई, थाने से मुहर लगाकर चलता कर दिया. ऐसे हालात में छात्राओं को कॉलेज में हस्ताक्षर अभियान चलाना पड़ा. एक ज्वाइंट कंप्लेंट लिखी, जिसके समर्थन में लगभग 500 स्टूडेंट्स ने हस्ताक्षर किए.




स्टूडेंट्स का कहना है-

हम भीमराव अंबेडकर कॉलेज के स्टूडेंट्स कॉलेज के आसपास बढ़ रही छेड़छाड़ की घटनाओं से बेहद चिंतित हैं. छात्राएं कॉलेज आने में डर महसूस करती हैं. कॉलेज के आने-जाने के रास्ते पर असमाजिक तत्व जमा रहते हैं. वे छात्राओं पर भद्दे कमेंट करते हैं. गंदे इशारे करते हैं. पिछले कुछ समय में रास्ता रोक हाथ पकड़ने और खराब बर्ताव करने की घटनाएं हुईं हैं. इस बारे में पुलिस को शिकायत भी दी गई, लेकिन पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया.




ये दुखद है कि तमाम शिकायतों के बावजूद पुलिस छात्राओं की सुरक्षा के लिए किसी प्रकार के ठोस इंतजाम नहीं कर रही. छात्राओं ने मांग की है कि कॉलेज के पास पुलिस पोस्ट या कॉलेज में हेल्प डेस्क लगाया जाए. साथ ही आसपास सीसीटीवी लगाएं, जिससे असमाजिक तत्वों पर नजर रखी जा सके. छात्राओं की शिकायत पर पुलिस जिम्मेदारी के साथ फौरन कार्रवाई करे. 

एक छात्रा ने पुलिस को सुनाई आपबीती तो यह जवाब सुनने को मिला…

हाल में अंबेडकर कॉलेज की एक छात्रा ने गोकलपुरी थाने में जाकर लिखित शिकायत दी कि वह दोपहर करीब 2:30 बजे कॉलेज के पास वाले फुटओवर ब्रिज से गुजर रही थीं. वहां पास के कुछ स्कूली छात्र ग्रुप में खड़े थे. उन्होंने उनके साथ इतना खराब व्यवहार किया कि स्पष्ट शब्दों में नहीं बता सकतीं. उनका हाथ पकड़ बदतमीजी की कोशिश की. कॉलेज के पास फुटओवर ब्रिज पर असमाजिक तत्व और स्कूली छात्र अक्सर ग्रुप बनाकर खड़े रहते हैं. वहीं बीयर पीते नजर आते हैं. आते-जाते छेड़छाड़ करते हैं. इस शिकायत पर थाने से सिर्फ मोहर लगी. न डीडी एंट्री दर्ज हुई, न एक्शन लिया गया. 

MUST READ: कॉलेज जाने वाली लड़कियों के WARDROBE में होने चाहिए ये 5 ACCESSORIES

 

छात्राओं का आरोप है कि कुछ दिन बाद वे दोबारा थाने जाकर एसएचओ से मिली. उनके साथ अन्य स्टूडेंट्स भी थीं. आरोप है कि उन इंस्पेक्टर ने उनकी बात सुनने के बाद कहा, बच्चों वह फुटओवर ब्रिज का एरिया ज्योति नगर थाने में आता है, हम तो फिर भी आपकी बात सुन रहे हैं. नसीहत दी कि तुम कॉलेज से तीन-चार छात्राएं एक साथ निकला करो.

कॉलेज के एक प्रफेसर ने कहा कि पुलिस का छेड़छाड़ संबंधी छात्राओं की शिकायतों को नजरंदाज करना हैरत में डालता है. कहां तो पुलिस महिला सुरक्षा के तमाम दावे करती है, वहीं जमीनी हकीकत देखें तो छात्राओं को सुरक्षा देना तो दूर, शिकायतों को अनसुना किया जा रहा है. 

 महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

 
 
Facebook Comments