दारुल उलूम का फतवा- गैर मर्दों से BANGLE पहनना नाजायज

1814
Bangle
Fatwa of Darul Uloom- It is unlawful to wear bangle from another man

दारुल उलूम ने फतवा जारी कर युवतियों और महिलाओं का गैर मर्दों से चूड़ी (Bangle) पहनने को नाजायज बताया है. कहा गया है कि यदि कोई ऐसा कर रहा है तो उसे तौबा करके इस तरह के गुनाह से बचना चाहिए.




जारी फतवे में कहा गया है कि जो महिलाएं बाजार में नामहरम (जिन से खून का रिश्ता नहीं हो) मर्दों के हाथ से चूड़ियां पहनती हैं तो वह नाजायज ही नहीं गुनाह-ए-अजीम भी है.

MUST READ: महिलाओं की मर्जी के बिना कोई कैसे उसे TOUCH कर सकता है?

एक व्यक्ति ने दारुल इफ्ता से लिखित में किए सवाल में यह जानना चाहा था कि मुस्लिम समाज की बहुत सी औरतें चूड़ी बेचने वाले दुकानदारों के हाथों से चूड़ियां पहनती हैं. उन्होंने पूछा कि क्या इस तरह घर से बाहर जाकर गैर-मर्दों के हाथों से चूड़ियां पहनना जायज है?




दारुल उलूम देवबंद के मुफ्तियों की खंडपीठ ने जवाब संख्या 473/द में पूछे गए सवाल का जवाब शरीयत की रोशनी में बताते हुए कहा कि नामहरम मर्द का अजनबी औरतों को Bangle पहनना नाजयाज ही नहीं गुनाह भी है.




READ THIS: कृष्ण के वेश में गीता के श्लोक गाती है ALIA KHAN, क्यों है इस पर विवाद?

मुफ्ती-ए-कराम ने कहा कि औरतों का नामहरम मर्दों से चूड़ी पहनने के लिए निकलना भी मना है. यदि कोई ऐसा कर रहा है तो उसे तौबा करना चाहिए.

दारुल उलूम वक्फ के वरिष्ठ मुफ्ती, मुफ्ती आरिफ कासमी ने शरीयत की जानकारी देते हुए बताया कि उक्त फतवा पूरी तरह शरीयत पर आधारित है. उन्होंने बताया कि मुस्लिम महिला को पर्दे में रहने का हुक्म है. महिलाओं को किसी औरत से ही चूड़ियां पहननी चाहिए.

साभार-(हिन्दुस्तान)

MUST READ: SAUDI ARAB में योग को मिला खेल का दर्जा, पहली योग ट्रेनर NOUF MARWAAI को क्यों जाता है इसका श्रेय?

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

 
Facebook Comments