कोई महिलाओं की STALKING करे तो गंभीरता से क्यों नहीं लेती पुलिस ?

660

महिलाओं की Stalking (पीछा करना) अपराध है, इसे जानते हुए भी पुलिस ऐसे मामलों को गंभीरता से नहीं लेती. दिल्ली हाईकोर्ट ने इसी बात पर दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि वह ऐसे मामलों पर तुरंत कार्रवाई करे.

जस्टिस जीएस सिस्तानी और जस्टिस चंद्रशेखर की बेंच ने कहा कि-हर नागरिक को गरिमा और सुरक्षा के भाव से जीने का अधिकार है. राज्य सुनिश्चित करे कि हर नागरिक खासतौर पर महिलाएं और बच्चे खौफ और असुरक्षा की भावना में न जीएं. 




हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को सभी थानों को इस तरह की घटनाओं के प्रति संवेदनशीलता बनाने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने कहा कि राजधानी में इस तरह के अपराध बढ़ रहे हैं, यदि पुलिस शुरु में ही ऐसे मामलों को गंभीरता से ले तो घटनाओं को टाला जा सकता है. पुलिस को हर हाल में ऐसी घटनाओं को रोकना होगा. 

MUST READ: NIGHT में 9 बजे तक बेटियां न लौटे तो क्यों घबराने लगते हैं पेरेंटस?

 

हाईकोर्ट ने एक महिला का पीछा करने के दोषी अरुण कुमार मिश्रा को निचली अदालत से मिली उम्रकैद की सजा को बरकरार रखने का फैसला दिया. दोषी 2008 से एक महिला का पीछा कर रहा था. महिला पहले गुरुग्राम में काम करती थी लेकिन मिश्रा की हरक़तों से परेशान होकर वहां की नौकरी छोड़ दी और अपने घर के पास ही काम करने लगी. 




महिला ने अदालत को बताया कि मिश्रा ने यहां भी उसका पीछा नहीं छोड़ा और पता लगा लिया कि मैं कहां काम करती हूं. 15 दिसंबर 2015 को जब वह स्कूटी से अपने रिश्तेदार के घर जा रही थी तो मिश्रा जबरदस्ती उसकी स्कूटी पर बैठ गया और गोली मारने की बात कहकर स्कूटी चलाते रहने को कहा. बाद में उसने एक जगह रोक कर उसे शादी करने के लिए दबाव बनाया, जब महिला ने मना किया तो मिश्रा ने उसके पीठ में गोली मार दी.




गोली पीड़ित महिला के रीढ़ की हड्डी में लगी, इस वजह से जीवनभर के लिए उसकी कमर के नीचे वाला हिस्सा अपंग हो गया. इस घटना से डेढ़ महीने पहले पीड़िता ने मिश्रा की शिकायत पुलिस से की थी, लेकिन पुलिस ने उस पर कोई ध्यान नहीं दिया. 

Kamlesh Jain, Senior Advocate, Supreme Court….talking about stalking…Watch this video:

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

 

Facebook Comments