मैथिल पत्रकार ग्रूप के 3rd MITHILA MAHOTSAV में महिला और बाल कलाकारों की रही धूम

1178
मैथिल-भोजपुरी अकादमी के सहयोग से मैथिल पत्रकार ग्रूप की ओर से आयोजित 3rd Mithila Mahotsav में महिला और बाल कलाकारों की धूम रही. मैथिली में अपनी प्रस्तुति देकर बच्चों ने साबित किया कि उन्हें अपनी मिट्टी, अपनी भाषा और अपनी संस्कृति से गहरा प्रेम और लगाव है. इस महोत्सव का आयोजन दो दिसंबर को दिल्ली के प्रेस क्लब में किया गया.
प्रदिप्ता झा
‘अर बकरी खास खो, छोड़ खुटोला बाहर जो’ पर नंदिता ठाकुर का नृत्य हो या ‘जय-जय भैरवी असुर भयावनी’ गीत पर प्रदिप्ता झा और ‘मां तुझे सलाम’ गीत पर पावकी झा के नृत्य ने दर्शकों का मन मोह लिया. पावकी को हाल ही में राष्ट्रपति ने भी सम्मानित किया है. दिल्ली में मैथिली को बढ़ावा देने वाली संस्था ‘मेलोरंग’ की महिला टीम के झिझिया नृत्य पर तो लोग झूमने पर मजबूर हो गए.

MUST READ: NIT PATNA की मेधा को ADOBE कंपनी ने दिया 39.5 लाख रुपये के सालाना पैकेज का ऑफर

अर्चिता ठाकुर, सुष्मिता झा और पटना यूनिवर्सिटी की मैथिली विभाग की सेवानिवृत प्रोफेसर शीला चौधरी के मैथिली गीत ने सबको प्रभावित किया. कार्यक्रम की शुरुआत सुष्मिता झा के भगवती गीत से हुई.  मैथिली की वरिष्ठ लेखिका और रचनाकार निवेदिता झा ने अपनी कविता से लड़कियों के साथ होने वाले भेदभाव का मुद्दा उठाया.
सुष्मिता झा
पृथु शांडिल्य, वेदाक्षी झा और अक्षित झा ने भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया. मेलोरंग के अन्य गायक राजीव रंजन झा, देवानंद झा के गाए मैथिली गीतों ने सबको नाचने पर मजबूर कर दिया.
भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा, विधायक संझीव झा, मै​थिली भोजपुरी अकादमी के उपाध्यक्ष नीरज पाठक, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुंधाशु त्रिवेदी, एनडीएमसी के उपाध्यक्ष पूर्व विधायक करण सिंह तंवर, लोकसभा टीवी के पूर्व सीईओ राजीव मिश्रा, पीएमओ के वरिष्ठ आर्इ्पीएस अधिकारी एससी झा, कांग्रेस प्रवक्ता प्रणब झा, मैथिल पत्रकार समूह के महासचिव संतोष ठाकुर, प्रेस क्लब आॅफ इंडिया के अध्यक्ष गौतम लाहिरी, प्रेस एसोसियेशन के महासचिव सीके ने दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की.
भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा ने मिथिला के लिए लोगों के समर्पण को सबसे मजबूत आधार करार देते हुए कहा कि उन्हें गर्व है कि वह मैथिल हैं. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुंधाशु त्रिवेदी ने कहा कि मिथिला में विकास की ब्यार बहना बाकी है. यह सीता की भूमि है. यहां हर कण में इतिहास, सम्मान और पर्यटन बिखरा है. उन्होंने कहा कि वह अवध से हैं और सभी जानते हैं कि अवध और मिथिला हमेशा से एक रहे हैं. उन्होंने मिथिला के वर्तमान दशा पर एक मशहूर कविता भी सुनाई.

MUST READ:  कई बंधनों को तोड़ कर उन्होंने कैसे बजा दिया पुरुषों का BAND?

मै​थिली भोजपुरी अकादमी के उपाध्यक्ष नीरज पाठक ने मैथिली भोजपुरी के विकास में ऐसे कार्यक्रमों को अवश्यक कारक करार देते हुए मातृभाषा मैथिली और मिथिला के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए हर संभव मदद का वादा भी किया.
मैथिल पत्रकार ग्रूप के महासचिव संतोष ठाकुर ने कहा ​कि इस समूह का लक्ष्य है मिथिला और मैथिली भाषा का विकास, उदभव, वैभव बढ़ाना. इसके लिए मैथिल पत्रकारों का यह संगठन लगातार काम कर रहा है. यह तीसरा वर्ष है जब Mithila Mahotsav का आयोजन हो रहा है. संगठन के प्रयास से जयनगर तक स्वतंत्रता सेनानी रेलगाड़ी को बढ़ाया गया. इसी के साथ बीएसएनएल ने वहां पर मैथिली में कॉल सेंटर शुरू किया.
संतोष ठाकुर
उन्होने कहा कि यह संगठन आगे भी इस तरह के सामाजिक कार्य में अपनी भूमिका निभाता रहेगा. संगठन के फिलहाल दो सौ से अधिक सदस्य देश-विदेश में हैं. कार्यक्रम का संचालन एसिड वाली लड़की पुस्तक की लेखिका और मिथिला की वरिष्ठ पत्रकार प्रतिभा ज्योति ने और निर्देशन एनएसडी के डा. प्रकाश झा ने किया.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें

Facebook Comments