नौसेना की 6 BRAVE महिलाएं निकलीं नाविक सागर परिक्रमा पर

22089
navika_sagar_parikrama
navika_sagar_parikrama

नौसेना की छह जांबाज महिलाएं समुद्री रास्ते से दुनिया को नापने निकली हैं. ये सभी Women Officer  ‘नाविक सागर परिक्रमा’ नामक मिशन आईएनएसवी तारिणी नौका के जरिए पूरा करेंगी. यह नौका 17 मीटर लंबी है. आईएनएसवी तारिणी दुनिया का एक मात्र सैन्य पोत है जिसकी सभी क्रू महिलाएं है. अभियान का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी कर रही हैं. इनकी यात्रा अगले साल अप्रैल में पूरी होगी.  गोवा के पणजी में रविवार को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने आईएनएस तारिणी को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.




MUST READ: जल्दी ही थलसेना के MILITARY POLICE में शामिल होंगी महिलाएं

 

200 दिन तक चलेगी यात्रा

यह यात्रा 10 सितंबर से शुरु होगा मार्च 2018 तक चलेगी. 200 दिन के दौरान वे 22 हजार समुद्री मील से ज्यादा की यात्रा करेंगी. टीम का नेतृत्व कर रही वर्तिका जोशी के मुताबिक गोवा से शुरु होकर यह यात्रा ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और फाकलैंड होते हुए गोवा वापस लौटेगी.  न्यूजीलैंड-फॉकलैंड के बीच की दूरी सबसे अधिक, 45 दिन है.  उन्होंने कहा कि यह अभियान ऐतिहासिक है क्योंकि पोत पर नेतृत्व से लेकर चालक दल के सदस्य तक सभी महिलाएं हैं. वे मानती हैं कि यह मिशन क्रांतिकारी है और इससे दूसरी महिलाएं भी प्रेरणा लेंगी. 




MUST READ:अब देश की रक्षा का दायित्व DEFENCE MINISTER निर्मला सीतारमण पर

 

3 साल से चल रही थी तैयारी

इस मिशन की तैयारी पिछले तीन साल से चल रही थी. इसी तैयारी के सिलसिले में यह महिला टीम मॉरीशस और दक्षिण अफ्रिका के केपटाउन का अकेले सफर कर चुकी हैं. यह टीम विशाखापट्टनम से गोवा तक 3हजार किलोमीटर की यात्रा 21 दिन में पूरी कर चुकी है. वर्तिका जोशी के अलावा लेफ्टिनेंट कमांडर प्रतिभा जामवाल, पी स्वाति, लेफ्टिनेंट एस विजया देवी, बी ऐश्वर्या और पायल गुप्ता शामिल है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस जांबाज महिलाओं की टीम की सराहना करते हुए उन्हें इस यात्रा के लिए शुभकामनाएं दी है. 




क्या है चुनौती?

दुनिया की परिक्रमा करने वाली दुनिया की पहली महिला सैन्य टीम के सामने कई चुनौतियां है. एक तरफ जहां उन्हें बारिश, तूफान और तेज उमस से जूझना होगा वहीं रास्ते में समुद्री डाकूओं का भी सामना करना पड़ सकता है. यात्रा के दौरान महिला नौसेनिक अधिकारियों को गहरे समुद्र में विभिन्न स्थानों पर समुद्र में हो रहे प्रदूषण का आकलन भी करना है. 

Facebook Comments