ये सड़कें रात में क्या इसलिए UNSAFE नहीं कि हम निकलते ही नहीं?

0 views
girl walking at night
girl walking at night

रीवा सिंह:

#MeriRaatMeriSadak-हमें रात में नहीं निकलना चाहिए क्योंकि ‘अच्छी लड़कियां’ रात में बाहर नहीं घूमतीं. जो काम है दिन में निपटा लो, रात में घूमोगी तो प्रॉब्लम तुम्हें ही होगी. नहीं मानोगी? घूमो, फिर कोई क़त्ल कर दे, रेप कर दे तो कहने मत आना.

अजी आपसे कहकर भी क्या करेंगे? आप जो भजन अभी सुना रहे हैं तो तब भी सुनाएंगे- कहा था न…पर हमें निकलना है क्योंकि हमें निकलना ही पड़ेगा ये बताने के लिए कि रातों में भी हम ज़िंदा रहती हैं उतनी ही जितनी कि दिन में. रातों में हम लुप्तप्राय प्रजातियां नहीं हो जाती. जिस सड़क को आप लड़कियों के लिए Unsafe कहते हैं न, उन सड़क से अनसेफ्टी को साफ़ करने के लिए हमें सड़कों पर ही उतरना पड़ेगा. एक दिन नहीं, अक्सर ही. किसी काम से नहीं, अनायास ही. कबतक सड़कों के नाम पर ख़ौफ़ पाले घूमते रहेंगे?  कबतक दहलीज़ें हमारी सीमा तय करती रहेंगी? ये सड़कें अनसेफ़ इसलिए ही हैं क्योंकि हम निकलते नहीं, हम निकलेंगे तो इन्हें हमारी आदत पड़ जाएगी.




MUST READ: ‪#‎meriraatmeriraah‬’ क्या आप भी निकलेंगी रात में सड़क पर?

 

सोचिए कितना अच्छा होगा जब शनिवार की रात को देश के कई कोनों से मेट्रो शहरों से ही नहीं, छोटे कस्बों से भी लड़कियां निकलकर आएं, घूमें. एक बार कल्पना करें भारतवर्ष के उस तस्वीर की जहां एक ही रात में पूरे देश में कई जगह लड़कियां यूं ही घूम रही हैं. यही करने वाले हैं हम, हम सब.

चारु लेखा ने इस घुमक्कड़ी में हिस्सा लेना चाहा पर उनकी समस्या ये थी कि वो कुशीनगर में रहती हैं और कोई साथ नहीं निकलेगा. इसपर Archana Arora ने कहा कि कहो तो कस्या आ जाऊं? अर्चना अभी जगदीशपुर में हैं जो पिपराइच से 7 किलोमीटर की दूरी पर है. इन दोनों में कमेंट्स में ही बातचीत हुई और दोनों ने मिलकर हाइवे से लेकर गांधी चौक तक टहलने की सोची है. ये दिल्ली-मुंबई की नहीं, छोटे नगरों की लड़कियां हैं जो निकलकर आ रही हैं। इनके उत्साह और जज्बे को सलाम.




MUST READ: हम सैंडिल मार्च की जगह CANDLE MARCH क्यों निकालते हैं?

 

आप सभी अपने-अपने शहरों, गांवों, कस्बों में निकलें क्योंकि निकलना ज़रूरी है. घर कोई सुरक्षा कवच नहीं है. हम डरकर घर में घुसेंगे तो एक दिन घर भी हमें नहीं बचाएगा. डरने से नहीं, डटने से ही सुरक्षित रहेंगे हम. अब बेटियों को ‘बेटी’ शब्द के आगे से ‘बचाओ’ हटाना होगा. बेटियां खुद को बचा लेंगी. इस घुमक्कड़ी में शामिल हो रहे हैं या अन्य कोई सुझाव हो तो अपनी सड़कें  पर लिखें- #MeriRaatMeriSadak




SEE THE LINK:ब्रह्माण्ड में बचा आखिरी प्रश्नचिन्ह भी किसी महिला के नाम के आगे लगा दिया जायेगा।

साभार-(फेसबुक वॉल)

Facebook Comments