साड़ी पर हिजाब, SOCIAL MEDIA पर क्यों हुआ विवाद?

1889
saree aur hijab
Instagram handle of Ayush Kejriwal

कविता सिंह:

इंडियन मूल की ब्रिटिश फैशन डिज़ाइनर आयुष केजरीवाल इन दिनों सोशल मीडिया के कुछ यूजर्स के निशाने पर हैं. आयुष की बनाई एक ड्रेस पर कुछ लोगों ने विवाद खड़ा कर दिया है. दरअसल आयुष ने saree aur hijab को मिक्स करके एक ड्रेस बनाई और मॉडल को पहनाकर उसकी तस्वीर इन्स्टाग्राम पर पोस्ट कर दी जिसमें उन्होंने कैप्शन दिया ‘Hijabs are very Stylish’.




आयुष को ऐसा करते कुछ समय भी नहीं बीता था कि लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया. उनके अकाउंट पर कई हेट कमेंट्स पोस्ट कर उनकी आलोचना करनी शुरू कर दी. लोगों ने उनकी ड्रेस को धर्म से जोड़ना शुरू कर दिया और देखते ही देखते पोस्ट वायरल हो गई.

ऐसे-ऐसे कमेंट्स आए…




कुछ सोशल मीडिया ट्रोलर्स ने लिखा कि साड़ी हिंदू महिलाओं की पहचान है, इसपर हिजाब डालकर हिन्दुओं को नींचा दिखाने की कोशिश की जा रही है. डिज़ाइनर ने हिजाब को ज्यादा और साड़ी को ज्यादा महत्व दिया है और ऐसा करके डिज़ाइनर ने हिंदू धर्म के लोगों की भावनाओं के साथ धोखा किया है.




एक और यूजर ने लिखा, हमारे ब्यूटीफुल इंडियन कल्चर पर इस्लामिक कल्चर हावी करने की कोशिश नहीं करो.

आयुष ने भी दिया करारा जवाब…

जब हद से ज्यादा इस ड्रेस को लेकर विवाद होने लगा तो आयुष ने कमेन्ट करते हुए लिखा, ‘मैं किसी धर्म विशेष की भावना को आहत नहीं करना चाहता हूं, मेरे अकाउंट पर धर्म को लेकर नफरत फैलाने वाले, गाली-गलौज कर धमकाने वालों और ट्रोलबाजी करके माहौल ख़राब करने वालों के लिए कोई जगह नहीं. जियो और जीने दो. किसी के पहनावे पर कमेन्ट करने वाला कोई नहीं होता, कोई ये तय नहीं कर सकता कि किसको क्या पहनना चाहिए इसलिए अपनी गंदी सोच अपने पास रखें तो बेहतर है. मैं आपसे निवेदन करता हूं कि ऐसी घटिया बातें यहां न करें तो बेहतर है क्योंकि मैं ऐसी नॉनसेन्स बर्दाश्त नहीं कर सकता.’

आयुष ने ट्रोलिंग करने वालों को करारा जवाब देकर अपने अकाउंट से कमेन्ट disable कर दिए. वैसे नेगेटिव कमेंट्स के अलावा कुछ लोगों ने आयुष के इस ड्रेस क्रिएशन की तारीफ भी की है. कुछ डिज़ाइनर्स ने उन्हें बधाई देते कहा है कि कुछ नया करने के लिए आयुष हमेशा आगे रहने वालों में से हैं. वह अक्सर साड़ी के यूनिक डिज़ाइन बनाकर फेमस हो चुके हैं, उम्मीद है वो ट्रोलिंग से निडर रहकर बेहतरीन काम करते रहेंगे.