TEENAGER बच्चों को क्यों समझाएं ‘ADULT’ बातें

560
Sofia Ashraf

Central Board Of Film Certification  अभी “lipstick Under My Burkha” पर हुई अपनी फजीहत को ही शायद पचा नहीं पाया है और उसे समझ नहीं आ पा रहा कि हिन्दुस्तान की Generation तेज़ी से आगे बढ़ रही है. महिलाओं की Sex Fantacy से परेशान  बोर्ड को ब्लाश चैनल की एक फ़िल्म “Adult Movie’ देखनी चाहिए, जिसमें रैपर और एक्टिविस्ट Sofia Ashraf ने फ़िल्म के जरिए यह बात लोगों के सामने रखी  है कि क्यों पेरेन्ट्स का अपने बच्चों से Sex पर बात करना जरूरी है.

सोफिया अशरफ की इस ‘एडल्ट मूवी’ में कहा गया है कि ये फ़िल्म 36 साल या उससे ज्यादा की उम्र के लोगों के लिए है. एडल्ट मूवी के लिए 18 साल की उम्र की पाबन्दी से दोगुनी या 36 साल रखने की भी एक वजह है फिल्म में. फ़िल्म की शुरुआत एक सेक्सी से सीन से होती हैं जिसमें वो पिज्जा डिलिवरी बॉय के साथ किस तरह डील कर रही हैं कि अगर पैसे न हों तो वो और कैसे उसे ‘पे’ कर सकती हैं. लेकिन जब तक आपके सोचने की उड़ान तेज़ हो, उससे पहले वो अपना इरादा साफ भी करती है .

Must watch : कैसे करें अपने बच्चों से बात

इस फ़िल्म में सोफिया कहती है कि एडल्ट मूवी का मतलब ज़रुरी नहीं कि वो पॉर्न मूवी हो. सोफिया एक मैसेज के साथ आती है –




”मैं 36 साल के लोगों से कहना चाहती हूं कि अगर आप इस उम्र के आस-पास हैं तो मुमकिन है कि आपका करीब 12 साल  की उम्र का बच्चा भी होगा, और उस वक्त आपकी पहली जिम्मेदारी ये नहीं होनी चाहिए कि आपको अपने बच्चों को Intercourse जैसे  “नुकसान“ पहुचाने वाले शब्दों से दूर रखना है बल्कि आपको उनके साथ इस पर  बात करनी चाहिए. क्योंकि भले ही आपको अच्छा लगे या न लगे लेकिन आपका Teenager बच्चा कहीं न कहीं इंटरकोर्स शब्द पर बात ज़रूर कर रहा होगा. अपने दोस्तों के साथ या इंटरनेट पर या फिर हो सकता है कि आने वाले वक्त में ‘Sexual Intercourse‘ को एक्सपीरिएंस भी कर रहा हो. तब आपके बच्चे को इसके बारे में पता चले, तो क्या आपको नहीं लगता कि ये सब जानकारी उसे आपकी तरफ से मिलती तो बेहतर ?




सोफिया कहती है कि आप ही सोचिए आपके बच्चे से इसके बारे में कौन बात करेगा? क्या आप चाहते हैं कि आपके बच्चे खुद हार्मोन्स से पीड़ित अपनी बराबर के उम्र के दोस्तों से ऐसा ज्ञान लें जो खुद ग़लत चीजों और Porn का सहारा लेते हों? अगर ऐसा नहीं चाहते हैं तो पेरेंट्स आप अपने बच्चों से सेक्स के बारे में बात कीजिए, क्योंकि चीजों को साफ करना उन्हें धुंधला रखने से ज्यादा बेहतर है.”




हो सकता है कि ज़्यादातर लोगों को ये फ़िल्म हजम नहीं हो लेकिन इतना तय है कि ये कोई पॉर्न फ़िल्म नहीं है और ना ही बोरिंग Sex Education की डाक्यूमेंट्री. इसमें सपाट और साफ बात की गई है आपके दिमाग पर चोट करते हुए.

Must see this video:

Facebook Comments