क्या आपका बच्चा भी जाता है day care ?

2 views
kid going to day care with mother
kid going to day care with mother

संयोगिता कंठ:

मेरी सोसाइटी में रहने वाली मेरी सहेली अक्सर इस बात को लेकर परेशान रहती है कि day care से लौटने के बाद उसका बच्चा खुश नहीं रहता है. उसे रोज कहीं- न कहीं चोट लगती है और वो कई बार यह शिकायत करता है कि आंटी या बड़े बच्चे उसे मारते हैं. डे केयर में अक्सर बच्चों के साथ मारने-पीटने यानी शारिरक और मानसिक शोषण करने की कई घटनाएं होती है. 




वर्किंग वूमेन के साथ बच्चों की देखभाल सबसे बड़ी समस्या होती है. यदि घर में कोई बजुर्ग या कोई और रिश्तेदार हो तो बच्चों की देखभाल आसान हो जाती है लेकिन यदि ऐसा कोई सहारा नहीं हो तो बच्चों को मेड या day care के भरोसे ही छोड़ना पड़ता है. अब छोटे शहर से लेकर बड़े शहरों में बड़ी संख्या में महिलाएं काम कर रही है और ऐसे में डे केयर भी बड़ी संख्या में खुल रहे हैं लेकिन बच्चों की सुरक्षा का सवाल हमेशा रहता है. आप भी अपने बच्चों को day care में छोड़ती है तो निश्चिंत मत हो जाइए…




जानिए क्या करें यदि आपका बच्चा डे केयर में रहता हो तो…

सबसे पहले यह देखें कि आप जहां बच्चे को छोड़कर जाती हैं वह जगह कैसी है? वहां बच्चों को पानी कैसा मिलता है, बिस्तर कैसा है, टॉयलेट साफ है या नहीं, बिजली रहती है या नहीं, कमरा हवादार और खुली जगह का है या नहीं? इन बातों को हरगिज नजरअंदाज नहीं करें क्योंकि आपके बच्चे को दिन के कई घंटे गुजारने हैं इसलिए साफ-सुथरा और अच्छी व्यवस्था वाली जगह नहीं हो तो आपके बच्चे का वहां मन नहीं लगेगा.




वहां आने वाले दूसरे बच्चों के माता-पिता से संपर्क में रहे, उनके फोन नंबर और घर का पता रखें. समय-समय पर दूसरे अभिभावकों से डे केयर पर बात करती रहें.

यह ध्यान देना बहुत जरुरी है जो मेड day care में बच्चों का ध्यान रखती है उसका व्यवहार कैसा है? मेड का फोन नंबर और घर का पता भी अपने पास रखने की कोशिश जरुर करें.

आमतौर पर महिलाएं सोचती हैं कि डे केयर में बच्चों के लिए कई तरह की एक्टिविटज होती है जिससे बच्चा खुश रहेगा लेकिन यहीं पर बच्चे के साथ मारपीट होने की आशंका रहती है. डे केयर संचालक या मेड बच्चों के साथ जबरदस्ती कर सकती हैं. इसलिए डे केयर से बच्चों को साथ लाते समय उससे दिन भर की गतिविधियों के बारे में जरुर पूछें.

चाहें कितनी भी थक गई हो बच्चे के साथ थोड़ा समय बिताएं. उसकी बात सुने.

बच्चा जो भी बात कहे उसे गंभीरता से सुने और डे केयर संचालक से बात करें. हो सकता है कि कई बार बच्चा आपके साथ रहने के कारण वहां नहीं रहने के बहाने भी बनाए लेकिन आपका सच जानना जरुरी है.

रोज डे केयर से लौटने के बाद अपने बच्चे के शरीर की जांच जरुर करें. कहीं उसे कोई चोट तो नहीं लगी. बातों-बातों में उससे मेड और दूसरे बच्चों के व्यवहार के बारे में जरुर पता लगाएं.

इन छोटी लेकिन बेहद जरुरी बातों का ध्यान रखेंगी तभी तो बच्चे को डे केयर में छोड़ने के बाद आपका भी मन ऑफिस में लगेगा….  

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here