WOMEN ENTREPRENEURS को आगे बढ़ाने में क्यों पीछे है हमारे शहर?

1664
entrepreneurs

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेशक ‘Start Up India’ प्रोग्राम के तहत स्टार्टअप शुरु करने वालों को तरह-तरह से प्रोत्साहित कर रहे हों लेकिन Women Entrepreneurs के लिए अभी भी देश में सकारात्मक माहौल नहीं है. देश की प्रतिभाशाली महिला उद्यमियों को बढ़ाने में अभी भी हमारे शहरों में अच्छा माहौल और अवसर नहीं है. बैंगलुरु जिसे भारत का सिलिकन वैली कहा जाता है वह शहर भी महिला उद्यमियों को आगे बढ़ाने के मामले में दुनिया के 50 टेक शहरों में 40वें स्थान पर है. जबकि दुनियाभर में महिला उद्यमियों की संख्या 10 फीसदी की दर से बढ़ रही है.




महिला उद्यमियों को दिए जाने वाले मौके को लेकर DELL कंपनी की सर्वे में यह बात सामने आई है. महिलाओं की अगुआई वाली कंपनियों को बढ़ावा देने वाले के आधार पर शहरों की यह इंडेक्स तैयार किया गया है. शहरों की पांच आधार पर रैंकिंग की गई है Capital, Technology, Talent, Culture and Market. सर्वे में देखा गया कि महिला उद्यमियों से जुड़ी नीतियां और कार्यक्रम किस तरह के हैं और उन्हें किस तरह स चलाया जा रहा है.




MUST READ:  5 HOME CAREER- जिसमें निखारें अपना हुनर और कमाएं पैसा

 

The Dell Women Entrepreneur Cities Index (We Cities) में कहा गया है कि अमेरिका का न्यूयॉर्क शहर इस मामले में दुनिया भर में टॉप-1 शहर में है. बे एरिया दूसरे और लंदन तीसरे. बोस्टर चौथे और स्टॉकहोम पांचवें नंबर है. टॉप 10 में अकेले अमेरिका के छह और यूरोप के दो शहर हैं. भारत का बैंगलुरु 40वें और दिल्ली 49वें नंबर पर है.




डेल की मुख्य संचालन अधिकारी केरेन क्विंटोस का कहन है कि कई महिलाएं अब स्टार्टअप शुरु कर रही हैं और उनकी कामयाबी की संभावनाएं भी बहुत है. हकीकत में महिलाएं पुरुषों के मुकाबले अपना कारोबर शुरु करने में ज्यादा दिलचस्पी रखती हैं लेकिन वित्तीय, सांस्कृतिक और राजनीतिक अवरोध उनका रास्ता रोक लेते हैं. अगर राजनीतिक परिस्थितियां सकारात्मक हों और कॉरपोरेट क्षेत्र की मानसिकता बदले तो महिलाएं बहुत अच्छा प्रदर्शन कर सकती हैं.

MUST READ: FASHION DESIGNING में क्यों है CAREER बनाने की कई संभावनाएं

 

 

Facebook Comments