अगर वो MUSLIM होती तो कैसा FEEL करती ?

2692
Barkha Dutt
Barkha Dutt

एनडीटीवी में अरसे तक रही पत्रकार बरखा दत्त अपनी बेबाकी और साफगोई के लिए जानी जाती हैं. अक्सर वे विवादों में भी रहती हैं.हाल में उन्होंनें अंग्रेज़ी पत्रिका द वीक में एक लेख लिखा है कि अगर वो मुसलमान होतीं तो कैसा महसूस करती . इस लेख के बहाने उन्होंनें हिन्दुस्तान में मुसलमानों के हाल को समझाने की कोशिश की है ,लेकिन जब उन्होंनें इस लेख को सोशल मीडिया पर ट्वीट किया तो उनको ट्रौल करने वालों की लाइन सी लग गई है. सोशल मीडिया पर ज़्यादातर लोग उनके ख़िलाफ़ खड़े होते दिखाई दे रहे हैं तो कुछ ने उनके लेख की तारीफ भी की है. हिन्दी अख़बार जनसत्ता ने उस लेख का अनुवाद किया है.इस लेख के अंश –

पत्रकार बरखा दत्त ने अंग्रेजी पत्रिका द वीक में एक लेख लिखकर बताया है कि अगर वो मुसलमान होती तो कैसा महसूस करतीं? बरखा ने लेख की शुरुआत में ही स्पष्ट किया है कि वो अज्ञेयवादी हैं और पूरी तरह अधार्मिक हैं. बरखा ने लिखा है कि वो खुद को किसी भी धर्म से नहीं जोड़तीं और जहां भी धर्म के बारे में बताना होता है वो उसकी जगह खाली छोड़ देती हैं. बरखा अगर मुसलमान होतीं तो उन्हें कैसा लगता ये बताने से पहले हम आपको बता दें कि अज्ञेयवादी उन्हें कहते हैं जो मानते हैं कि ईश्वर है या नहीं है, ये दोनों बातें जानना संभव नहीं है.

बरखा ने लिखा है कि अधार्मिक होने के नाते वो किसी भी धर्म के दृष्टिकोण से कुछ कहने के लिए खुद को बहुत सक्षम नहीं पातीं लेकिन पिछले हफ्ते उनसे पूछा गया था कि अगर वो मुस्लिम होती तो कैसा लगता? बरखा के अनुसार ये सवाल उनकी आत्मा को कुरेदता रहा और उन्हें बेचैन करता रहा.

बरखा ने अपने लेख में “अगर मैं मुसलमान होती” सवाल का जवाब देने से पहले कई सवालों पूछे हैं. बरखा ने पूछा है, “अगर देश के मौजूदा राजनीतिक विमर्श में मेरी आवाज नहीं सुनी जाती तो मुझे कैसा लगता क्योंकि अब मेरे बिना चुनाव जीतना संभव हो गया है?”  या “जिस प्रदेश में मुसलमानों की भारी तादाद है वहां सत्ताधारी पार्टी के एक भी विधायक उम्मीदवार मुस्लिम नहीं था?”

बरखा ने लिखा है, “जुनैद की खून से लथपथ तस्वीर देखने के बाद क्या मैं ईद मना पाती?” ” पशु व्यापारी पहलू खान को भीड़ ने जिस तरह फुटपाथ के किनारे मार डाला उसे देखकर मैं खुद से क्या कहती?”

“क्या मैं वायुसेना के जवाब मोहम्मद सरताज के उस उत्साह को साझा कर पाती जब उन्होंने कहा था कि सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा?” सरताज का भारतीय न्याय व्यवस्था पर यकीन तब भी बना रहा जब उनके पिता अखलाक अहमद की भीड़ ने बीफ की अफवाह पर हत्या कर दी.

बरखा ने अपने लेख में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कट्टरपंथी मुसलमानों और आतंकवादी संगठनों के बारे में सवाल पूछा है. बरखा ने लिखा है, “अगर मैं मुस्लिम होती तो मैं खुद को कितना असहाय महसूस करती जब कट्टरपंथी इस्लामिक और आतंकवादी मेरे मजहब का नाम खराब करते और मुझे उनके कृत्यों की निंदा करने को मजबूर होना पड़ता जैसे उनके जघन्य कृत्यों के लिए मैं ही जिम्मेदार हूं?”

बरखा ने हाल ही में कश्मीर में भीड़ द्वारा मस्जिद में पीट-पीट कर मार दिए पुलिस डीएसपी अयूब पंडित का मुद्दा भी उठाया है. बरखा ने लिखा है, “मैं बहादुर पुलिस अफसर अयूब पंडित के परिवार से क्या कहती जिन्हें शब-ए-क़द्र की पाक रात को एक मस्जिद के बाहर पीटकर मार डाला गया है. या मैं खूबसूरत नौजवान उमर फयाज की हत्या पर उनके परिवार से क्या कहती?” बरखा ने तीन तलाक को पुरातनपंथी और दकियानूसी बताया है. बरखा ने पूछा है,  “…मैं अपने धर्म के स्वयंभू ठेकेदारों से कैसे निपटती?”

बरखा ने तमाम सवालों के बाद बताया है कि वो मुसलमान होने पर कैसा महसूस करतीं. बरखा ने लिखा है कि अगर वो मुसलमान होतीं तो उन सभी राजनीतिक दलों को देखकर हैरान होतीं जो उनका रहुनमा होने का दावा करते रहे हैं लेकिन उनका इस्तेमाल करके उन्हें अलग-थलग छोड़ दिया है.

बरखा ने लिखा है कि अगर वो मुसलमान होतीं तो वो शाह बानो के बारे में सोचती जो अपने शौहर से गुजाराभत्ता पाने के लिए अदालत गईं लेकिन राजीव गांधी सरकार ने अदालत के फैसले को पलट दिया.
बरखा ने लिखा है कि अगर वो मुसलमान होतीं तो खुद को अपने देश से प्यार करने के लाखों कारण याद दिलातीं. बरखा ने लेख के अंत में लिखा है, “लेकिन जैसे मुझे हर बार याद दिलाया जाता कि मॉडरेट होने के कारण मुझे बोलना चाहिए, मैं पूछती कि क्या भारत की बहुत बड़ी मॉडरेट हिंदू आबादी मेरे लिए बोलेगी?”

(सौजन्य –  द वीक और जनसत्ता)