सोशल मीडिया पर चले वो 4 CAMPAIGN जिसे महिलाओं ने बनाया 2017 में जबरदस्त HIT

2255

संयोगिता कंठ:

साल 2017 अब अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच रहा है. इसी के साथ हम इस साल बिताए अपने पलों को याद करेंगे और कई खट्टी-मीठी बातों को दिलों में संजो कर रखेंगे. बात निकली तो याद आई 2017 में सोशल मीडिया पर चले उसे 4 Campaign की जिसे महिलाओं ने चलाया और यह जबरदस्त Hit साबित हुआ.




1-#MeToo-

यह एक ऐसा कैंपेन था जिसने महिलाओं को यौन शोषण के खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत दी. महिला हिंसा और शोषण के खिलाफ आवाज उठाते हुए दुनिया भर की महिलाओं ने #MeToo कैंपेन शुरु किया था. देखते-देखते यह कैंपेन दुनिया भर में मशहूर हुआ और करीब 3 करोड़ महिलाएं इस कैंपेन से जुड़ी.

#METOO CAMPAIGN




MUST READ: #MeToo कैंपेन चलाने वाली महिलाओं को टाइम मैगजीन ने चुना ‘PERSON OF THE YEAR’

यौन उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए #MeToo हैशटैग से कैंपेन चलाने वाली महिलाओं को टाइम मैगजीन ने ‘Person Of The Year’ चुना है. टाइम मैगजीन ने उन्हें इन्हें ‘The Silence Breakers’ यानी चुप्पी तोड़ने वालीा बताया है.




टाइम के एक सर्वे में 82 फीसदी महिलाओं ने माना था कि इस कैंपेन की वजह से उन्हें यौन शोषण के खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत मिली है. यह कैंपेन भारत में भी बहुत पॉपुलर हुआ और सोशल मीडिया पर कई महिलाओं ने अपने साथ हुए यौन शोषण की बात कही.

2-#LahuKaLagan

सैनटरी पैड को भी जीएसटी के दायरे में लाने के बाद यह कैम्पेन शुरु हुआ. सरकार ने अप्रैल में जीएसटी लागू किया था उसके बाद यह मांग उठने लगी कि को सैनिटरी पैड को टैक्स फ्री किया जाए.

MUST READ: ‘महीने की गंदी बात’ जैसे दकियानूसी सोच के खिलाफ है #MyFirstBlood CAMPAIGN

जीएसटी में सैनिटरी पैड पर 12% टैक्स लगाया गया. माना गया कि यह लग्जरी चीज है. इस कैंपेन के जरिए महिलाओं ने यह सवाल उठाया कि क्या सैनटरी पैड का इस्तेमाल करना लग्जरी है?

3-#Womanspreading

#Womanspreading

#Womanspreading कैंपेन चलाकर महिलाओं ने यह मैसेज दिया कि लड़कियों भी भला टांगे फैलाकर क्यों नहीं बैठे? इंस्टाग्राम पर यह कैंपेन काफी ट्रेंड कर रहा है. #MeToo कैंपेन की तरह इस कैंपेन पर भी लड़कियों की अच्छी प्रतिक्रिया आ रही है. माना जा रहा है कि नए साल के आने तक यह कैंपेन अभी ट्रेंड में रहेगा.

MUST READ: महिलाओं के LEGS फैलाकर बैठने पर मुंह बनाने वालों के खिलाफ अब शुरु हुआ #Womanspreading कैंपेन

नवंबर महीने में जैसे ही यह कैंपेन इंस्टाग्राम पर शुरु हुआ दुनिया के हर कोने से इस पर महिलाओं की प्रतिक्रिया मिल रही है. महिलाएं पैर फैलाकर अपने फोटो इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर रही हैं.  Bella Hadid और Kaia Gerber जैसे मॉडलों ने पैर फैलाकर अपनी तस्वीर शेयर की है.

 4-#MyFirstBlood

पीरियड यानी मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों और पाबंदियों के खिलाफ वुमनिया, मुहीम और लोक समिति तीन संस्थाओं ने मिलकर शुरु किया  #MyFirstBlood कैंपेन. 1 दिसंबर से शुरु हुआ यह कैंपेन 19वें दिन पहुंच गया है और इस पर देश भर से लड़कियों और महिलाओं की जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है.

MUST READ: ‘महीने की गंदी बात’ जैसे दकियानूसी सोच के खिलाफ है #MyFirstBlood CAMPAIGN

कैंपेन के जरिए महिलाओं ने अपनी चुप्पी तोड़ी है कि और बताया है कि पीरियड के नाम पर उन्हें किन-किन निषेधों और पाबंदियों को सहना पड़े है. कैंपेन में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखंड और असम से लड़कियों और महिलाओं ने अपने अनुभव शेयर किए हैं.

कैंपेन के दूसरे चरण में जनवरी में वाराणसी के नागेपुर गांव में एक वर्कशॉप का आयोजन भी किया जा रहा है. नागेपुर गांव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे संसदीय आदर्श गांव के तौर पर चुना गया है.

महिलाओं से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करे… Video देखने के लिए हमारे you tube channel को  subscribe करें